image

नई दिल्लीः उच्चतम न्यायालय ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन के जरिये डाले गए मतों का कम से कम 50 प्रतिशत वीवीपैट की पर्चियों से मिलान करने संबंधी 21 राजनीतिक दलों की याचिका पर निर्वाचन आयोग को शुक्रवार को नोटिस जारी किया।

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना की पीठ ने इस मामले में सहयोग के लिए एक अधिकारी नामित करने का आयोग को निर्देश दिया। शीर्ष अदालत ने मामले की सुनवाई के लिए 25 मार्च की तारीख मुकर्रर की है।

गौरतलब है कि आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू की तेलुगू देशम पार्टी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी, कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, वामपंथी पार्टियां, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी सहित 21 विपक्षी दलों के प्रमुख नेताओं ने गुरुवार को शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया।

आम आदमी पार्टी, कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने पिछले महीने एक ज्ञापन चुनाव आयोग को सौंपा था, जिसमें नवंबर-दिसंबर में पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों के मद्देनजर कई संदेहास्पद गतिविधियों के बारे में बताया गया था।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Supreme Court notice to Election Commission in EVM-VVPAT slip-match case

More News From national

IPL 2019 News Update
free stats