image

नई दिल्लीः वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शनिवार को कहा कि लोग अब केवल नारे नहीं सुनेंगे क्योंकि वे सोशल मीडिया माध्यम के साथ फैसला लेने में सक्षम हैं। ‘मन की बात : ए सोशल रिवोल्यूशन ऑन रेडियो’ पुस्तक का विमोचन करते हुए उन्होंने कहा कि हाल के वर्षों में सामने आए संचार के नए मंच आगामी वर्षों में जनसंचार के प्रारूप को अकल्पनीय स्तर पर बदल देंगे।

जेटली ने कहा, ‘‘आज का भारत और 1960 व 1970 के दशक का भारत अलग है। अब लोग केवल नारे नहीं सुनेंगे। वे तय करने में पर्याप्त रूप से सक्षम हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘तय करने के माध्यम से लोग फैसला लेते हैं और यह माध्यम (सोशल मीडिया मंच) ऐसे फैसलों के लिए निशुल्क भी होते हैं।’’

न्यूज मीडिया की वर्तमान भूमिका पर तंज कसते हुए जेटली ने कहा, ‘‘मीडिया संगठन अब मुद्दों और घटनाओं की रिपोर्टिंग की पारंपरिक भूमिका के खिलाफ ‘एजेंडा सेटिंग’ करने में तब्दील हो गए हैं।’’ जेटली ने 2014-2016 के दौरान सूचना एवं प्रसारण प्रभार भी संभाला था।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: People can not just satisfy slogan: Jaitley

More News From national

Next Stories
image

free stats