image

दिल्लीः दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में 2 नवंबर को पुलिस और वकीलों के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद पुलिस और वकील दोनो ही प्रदर्शन पर उतर आए। दिल्ली पुलिस और वकीलों के बीच छिड़ा विवाद सातवें दिन भी थमने का नाम नहीं ले रहा है। डीसीपी मोनिका भारद्वाज के साथ धक्का-मुक्की का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद मामले ने और तूल पकड़ लिया है। ये ही वजह है कि सुप्रीम कोर्ट को भी इस मामले में बोलना पड़ा। शुक्रवार को अदालत ने तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा कि ताली एक हाथ से नहीं बजती है। हमें सब पता है। हम किसी वजह से चुप हैं।

दरअसल ओडिशा में भी वकीलों का कुछ विवाद चल रहा है। शुक्रवार को इस विवाद की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में चल रही थी। सुनवाई के दौरान एक वक्त ऐसा आया कि जब जजों ने तीस हजारी मामले का जिक्र करते हुए जिरह कर रहे वकीलों से कहा कि एक हाथ से ताली नहीं बजती। समस्या दोनों तरफ है। हम और अधिक कुछ नहीं कहना चाहते हैं। हम किसी कारण से चुप हैं। हालांकि इस दौरान वकीलों ने पुलिस अत्याचार की शिकायत भी की। लेकिन कोर्ट उनके तर्क से सहमत नहीं हुआ। बार काउंसिल के अध्यक्ष मनन मिश्रा ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि उन्हें उम्मीद है कि दो दिन के भीतर समाधान हो जाएगा। इस मौके पर वो भी मौजूद थे।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Khaki vs police dispute: Supreme Court said clap does not ring with one hand, we all know

More News From national

Next Stories
image

free stats