image

नई दिल्ली: मोदी सरकार चलाया गया मेक इन इंडिया अभियान के तहत रक्षा क्षेत्र में सबसे पहला और सफल उपक्रम बन गया है। इस रक्षा उपक्रम का नाम नैनी एयरोस्पेस लिमिटेड है। हिंदुस्तान एयरोनोटिक्स लिमिटेड यानि एचएएल के अंतर्गत काम करने वाली नैनी एयरोस्पेस स्वदेशी लड़ाकू विमान तेजस और दूसरे हेलीकॉप्टर्स के लिए बॉडी-पार्ट्स और स्पेशल ल-लूम बनाती है। इनसे फाइटर जेट और हेलीकॉप्टर देश की रक्षा और सुरक्षा करने में सक्षम बनते हैं।


नैनी एयरोस्पेस लिमिटेड प्लांट की शुरूआत फरवरी 2017 में हुई थी, जब एचएलएल ने इलाहाबाद यानि प्रयागराज में 15 साल से बंद पड़ी एक सरकारी कंपनी ''हिंदुस्तान केबिल्स लिमिटेड'' का अधिग्रहण किया. नैनी एयरोस्पेस लिमिटेड के शानदार कैंपस, लॉन, बिल्डिंग को देखकर कोई भी हैरान हो सकता है कि 15 साल से बंद पड़ी एक फैक्ट्री का कायापलट आखिर कैसे हुआ।


दिसंबर 2016 तक ये प्लांट ऐसा नहीं था जैसा आज है। 1989 में हैवी इंडस्ट्रीज़ मिनिस्ट्री यानि भारी उद्योग मंत्रालय के अंतर्गत शुरू हुई ये कंपनी लिबराईजेशन, ग्लोबलाईजेशन और प्राईवेटाईजेशन का शिकार हो गई थी। इसके‌ साथ-साथ मोबाइल क्रांति ने इस कंपनी पर हमेशा के लिए ताले लगा दिए क्योंकि ये कंपनी लैंडलाइन फोन के फाइबर ऑप्टिकल केबिल बनाती ।


50 एकड़ से भी ज्यादा एरिया में फैले हिंदुस्तान केबिल लिमिटेड में आखिरी उत्पादन 2003-04 के आसपास हुआ। इसके बाद कंपनी को ऑर्डर मिलने बंद हो गए थे। कई कर्मचारियों ने नौकरी छोड़ दी थी क्योंकि उनकी सैलरी आनी बंद हो गई थी। ‌सरकार की तरफ से साल में तीन-चार महीने ही सैलरी आती थी।

हालात तब बदले जब साल 2014 में केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार आई। मोदी सरकार ने वर्ष 2014 में पहली बार सरकार बनाने के बाद 'मेक इन इंडिया' का नारा दिया। इसके तहत, तत्कालीन रक्षा मंत्री, मनोहर पर्रीकर ने वर्ष 2016 में देश की सबसे बड़ी स्वदेशी एयरस्पेस कंपनी एचसीएल को टेकऑवर करने का निर्देश दिया।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: First successful venture in defense sector under Make in India

More News From national

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats