image

नई दिल्लीः लोकसभा चुनावों की तैयारियां पूरी तरह से शुरु हो चुकी हैं। 9 अप्रैल से शुरु होने वाले चुनाव 23 मई तक खत्म होंगे और चुनाव नतीजे भी तब ही आएंगे, लेकिन चुनाव के नतीजे आने में देरी हो सकती है। चुनाव आयोग द्वारा ने इस बारे में जानकारी दी है कि लोकसभा चुनावों के नतीजों में देरी हो सकती है। 

Read More  नामांकन से पहले अमित शाह का मेगा रोड़ शो, सरदार पटेल को दी श्रद्धांजलि

विपक्षी दलों द्वारा काउंटिंग में कम से कम 50 फीसदी वीवीपैट पर्चियों के ईवीएम से मिलान के लिए समय चाहिए। इसके लिए चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट ने बताया है कि लोकसभा चुनावों के नतीजों में देरी आ सकती है। आयोग ने इसकी व्यवहारिकता पर भी सवाल उठाते हुए कहा है कि इसके लिए न सिर्फ बड़ी तादाद में सक्षम स्टाफ की जरूरत होगी, बल्कि बहुत बड़े काउंटिंग हॉल की भी दरकार होगी जिनकी पहले से ही कुछ राज्यों में कमी है। 

Read More   IPL 12 : सैमसन का शतक बेकार, हैदराबाद की पहली जीत

विपक्षी दलों द्वारा ईवीएम और वीवीपैट पर्चियों का मिलान 50 फीसदी तक बढ़ाने की मांग अगर मानी गई तो चुनाव नतीजे आने में करीब 5 दिन ज्यादा लग सकते हैं। चुनाव आयोग ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट को यह जानकारी दी है। दरअसल, 21 विपक्षी दलों के नेताओं ने कोर्ट में याचिका दाखिल कर मांग की थी कि एक निर्वाचन क्षेत्र में कम से कम 50 प्रतिशत वीवीपैट पर्चियों की मिलान किया जाए, ताकि चुनावी प्रक्रिया की शुद्धता पर आंच न आए। इसपर सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से विचार करने को कहा था। 

Read More  देर रात से सुरक्षाबलों और आतंकियों में मुठभेड़, इलाके की हुई घेराबंदी

अब चुनाव आयोग ने अपने जवाब में कहा, 'अगर हर संसदीय या विधानसभा क्षेत्र की 50 प्रतिशत वीवीपैट पर्चियों का मिलान किया जाएगा तो इससे गिनती करने का वक्त बढ़ेगा। इसमें करीब 5 दिन तक ज्यादा लग सकते हैं। ऐसे में लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों की घोषणा 23 मई की जगह 28 मई को हो पाएगी।' 
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: 50 percent of vvpat trail will delay result by 5 days

More News From national

Next Stories

image
free stats