image

नई दिल्लीः पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली आज पंचतत्व में विलीन हो गए। दिल्ली के निगमबोध घाट पर उन्हें अंतिम विदाई दी गई। बेटे रोहन ने अपने पिता को मुखाग्नि दी। अरुण जेटली के अंतिम संस्कार के समय बारिश भी होने लगी, लेकिन सभी अंतिम रस्मों को बारिश के बीच में ही निभाया गया। जेटली के अंतिम संस्कार में बड़े नेताओं का तांता लग गया।आपको बता दें कि  बीजेपी मुख्यालय से अंतिम दर्शनों के बाद अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया। 

अरुण जेटली के अंतिम संस्कार में लाल कृष्ण आडवाणी, नीतिन गडकरी निगमबोध घाट पर पहुंचे। इसके अलावा बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा, अरविंद केजरीवाल, उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी निगमबोध घाट पर मौजूद रहे। 

महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, बिहार और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस, विजय रुपाणी, बी एस येदियुरप्पा, नीतीश कुमार और त्रिवेंद्र सिंह रावत भी अंतिम संस्कार में मौजूद रहे।इससे पहले दिन में उनके पार्थिव शरीर को भाजपा मुख्यालय ले जाया गया। वहां से फूलों से सजी तोप गाड़ी में पार्थिव शरीर निगम बोध घाट लाया गया। इस दौरान आकाश ‘जेटली जी अमर रहें’ के नारों से गुंजायमान हो गया।

भाजपा कार्यकर्ता और शोकाकुल लोग सुबह से ही भाजपा मुख्यालय के बाहर जेटली को अंतिम श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए कतार में खड़े थे।यमुना नदी के किनारे निगम बोध घाट की ओर से जाने वाली सड़कें जेटली को याद करने वाले पोस्टरों से पटी हुई थीं।

गौरतलब है कि  लंबे समय से कैंसर की बीमारी से जूझ रहे अरुण जेटली 9 अगस्त से दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती थी, काफी दिनों तक उपचाराधीन रहने के बाद कल शनिवार को दोपहर 12.7 बजे उन्होनें अपनी अंतिम सांस ली। 
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: ArunJaitley cremated with full state honours at Nigambodh Ghat

More News From national

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats