image

बहुत से लोगों को यह जानने की इच्छा रहती है कि हमारा बच्चा दाएं हाथ से लिखेगा या बाएं ? लेकिन हम उलटे हाथ से लिखे या सीधे हाथ से यह हमारे जन्म से पहले ही तय हो जाता है। जी हां, ये हमारी स्पाइनल कॉर्ड पर निर्भर करता है। हमारे शरीर में मस्तिष्क के साथ एक और जरूरी अंग होता है जो  हमारे शरीर के मूवमेंट को नियंत्रित रखता है ये है स्पाइनल कार्ड जो मस्तिष्क की पूंछ से शुरू होकर हमारी रीढ़ की हड्डी के अंदर से गुजरता है और कूल्हों तक जाता है।

एक रिसर्च के मुताबित स्पाइलन कॉर्ड निर्धारित करता है की हम किस हाथ से लिखे जन्म से पहले भ्रूण ही में ही बात का पता लगाया जा सकता है की बच्चा राइटी होगा या लेफ्टि वैज्ञानिकों ने 13 हफ्ते के भ्रूण का निरीक्षण किया इसमें बच्चे 8 से लेकर 13 हफ्ते में ही अपना उल्टा या सीधा अगूंठा चूसने लगते है जन्म के बाद भी ये उसी हाथ का अधिक प्रयोग करते है।

आपकी जानकारी के लिए बताते चले कि मोटर कॉटेक्स हमारे मस्तिष्क का वो हिस्सा है जो हमारे चलने फिरने और हाथो के प्रयोग को निर्धारित करता है।

इस हिस्सा भ्रूण में 15 हफ्ते के बाद बढ़ना शुरू हो जाता है इस आधार पर स्पाइनल कॉर्ड आपके राइटी या लेफ्टि होना निर्धारित करती है।
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Take care during your feeding

More News From life-style

IPL 2019 News Update
free stats