image

आपने बहुत से ऐसे लोग देखे होंगे जिनकी आंखे नीली, भूरी, लाल हैं, हेजल रंग की होती है। कई लोग ऐसे भी होते हैं जिनकी आंखे हरी रंग की होती है। बता दें कि वर्ल्ड एटल्स के मुताबिक दुनिया में केवल दो प्रतिशत लोग हैं जिनकी आंखों का रंग हरा है। अगर आंखों के रंगों की तुलना करें तो 79 प्रतिशत लोगों की भूरी रंग की आंखें हैं जबकि 8 प्रतिशत लोगों की आंखों का रंग नीला है। वहीं 5 प्रतिशत लोगों की आंखों का रंग हेजल रंग की होती हैं और 5 प्रतिशत लोगों की आंखों का रंग ऐंबर रंग का होता है। जबकि दुनिया की पूरी आबादी में केवल 2 प्रतिशत लोगों की हरे रंग की आंखें होती हैं। 

Read More: ट्रेवलिंग के जरिए ऐसे रखें अपने पेरेंट्स को खुश

हरी आंखों वाले लोग अधिकांश मध्य, पश्चिमी और उत्तरी यूरोप में सबसे आम हैं। हरी आंखें आमतौर पर सेल्टिक या जर्मन वंश की ओर इशारा करती हैं। फिलहाल वे ब्रिटेन, आइसलैंड, नीदरलैंड, स्कॉटलैंड, एस्टोनिया और स्कैंडिनेविया में सबसे अधिक प्रचलित हैं। 

Read More: इन गलतियों के कारण टूटते हैं आपके बाल, जानिए क्या

वास्तव में, ब्रिटेन में स्कॉटलैंड डीएनए द्वारा किए गए एक अध्ययन के अनुसार भूरी आंखें हरे रंग की तुलना में दुर्लभ हैं। वहां 30 प्रतिशत हरे रंग की तुलना में 22 प्रतिशत लोगों की भूरी आंखें होती हैं। 

Read More: नहीं पता आंख फड़कने का असली कारण, तो जरूर पढ़े ये खबर

हरे रंग की आंखें दुर्लभता के लिए बैंगनी के बाद दूसरे स्थान पर आती हैं। इस तरह के आंखों के रंग को पिगमेंट, मेलेनिन की एक छोटी मात्रा द्वारा निर्धारित किया जाता है, जो हल्के भूरे या पीले रंग के वर्णक लिपोफासिन (आंख की परितारिका की बाहरी परत में वितरित) के साथ मिलकर आंखों को हरा रंग देता है।हरी आंखों के छोटे बच्चों में दिखने में तीन साल तक का समय लग सकता है, क्योंकि रेले के बिखरने का समय मनुष्यों में बनने और दिखने में समय लगता है।
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: have you ever seen people with green eyes

More News From life-style

IPL 2019 News Update
free stats