image

हमारे भारत में अनेकों खूबसूरत पर्यटन स्थल हैं जहां पर्यटकों की भीड़ देखने को मिलती है और हर कोई यहां आकर अपने दिन को खुशनुमान बनाता है। ऐसे ही जगहों में एक है ऊटी। कर्नाटक और तमिलनाडु राज्यों की सीमा पर स्थित है, यह तमिलनाडु के नीलीगिरी जिले में एक छोटा सा शहर है जहां एक लाख से भी कम लोग निवास करते हैं। आइए जानते हैं यहां मौजूद खूबसूरत जगहों के बारे में-

ऊटी झील: इस झील का निर्माण ब्रिटिश शासन के समय कोयंबतूर के कलेक्टर जॉन सुलीवान ने 1824-25 में करवाया था। ये एक आर्टिफिसियल अथवा मानव निर्मित झील है। यह झील तमिलनाडु टूरिज़्म डेवलपमेंट डिपार्टमेंट के अधीन है, जिसका अधिकार इसने टूरिज़्म डिपार्टमेंट से 1973 में पाया था। ढाई किमी लंबी इस झील का एरिया लगभग 65 एकड़ का है। झील के चारों ओर फूलों की क्यारियों में तरह-तरह के रंगबिरंगे फूल यहां की ख़ूबसूरती में चार चांद लगाते हैं। झील में मोटर बोट, पैडल बोट और रो बोट्स में बोटिंग का लुत्फ भी उठाया जा सकता है। जो विजिटर्स को बोटिंग का मजा देते है। यहाँ मई के महीने में होने वाली बोट रेस भी प्रसिध्द है। इस झील को देखने के लिए सालाना लाखों पर्यटक यहां पहुंचते हैं।

बॉटनिकल गार्डेन: इसका निर्माण उटकमंडलम(ऊटी) में 1848 में किया गया था। जिसके आर्किटेक्ट विलियम ग्राहम म्क्लोवर थे। यह उद्यान अपनी प्राचीन वनस्पतियों के लिए प्रसिध्द है। इस जगह को घूमने के लिए आप बारिश के अलावा अन्य कोई भी समय का चयन कर सकते है। इस उद्यान की रखवाली तमिलनाडु हॉर्टिकल्चर सोसाइटी द्वारा की जाती है। यहाँ घूमने आने वालों को देखने के लिए सबसे पहले यही जगह सजेस्ट की जाती है, और यह है भी इतना सुंदर कि हर किसी का मन मोह लेता है। 22 एकड़ में फैले इस गार्डन में लगभग 650 दुर्लभ किस्म के पेड़-पौधों हैं। इसके अलावा रंगबिरंगे लिली के फूल, खूबसूरत झाड़ियां व 2000 हजार साल पुराने पेड़ के अवशेष देखने को मिलते हैं। मई के महीने में यहां एक महोत्सव का आयोजन होता है, इस महोत्सव में फूलों की प्रदर्शनी और सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, जिसमें स्थानीय प्रसिद्ध कलाकार भाग लेते हैं। यह जगह फोटोग्राफी के लिए भी उपयुक्त है, लेकिन इस जगह को घूमने के लिए आपको खूब पैदल भ्रमण करना पड़ेगा।

स्टोन हाउस: सन 1822 में बना हुआ ब्रिटिश गवर्नर जॉन सुलीवान का यह बंगला ऊटी में बना हुआ पहला बंगला है। आज के समय में यह ऊटी में स्थित गवर्नमेंट आर्ट कॉलेज के प्रिन्सिपल के निवास के रूप में जाना जाता है।

ऊटी माउंटेन रेलवे: ऊटी में मौजूद यह रेल्वे 1908 में ब्रिटिश सरकार द्वारा बनाया गया था। यहाँ ट्रेन आज भी पुराने तरीके के अनुसार भाप के इंजन द्वारा ही चलती है।

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Want to make your moments happy and memorable then go Ooty

More News From life-style

Next Stories

image
free stats