image

शिशु का पाचन तंत्र बहुत कमजोर और संवेदनशील होता है।जिसका कारण होता है कि वह उस समय से गुजर रहे है जब उनके बॉडी पार्ट्स धीरे- धीरे ग्रो करते है और स्ट्रांग बनते है। आपके बच्चे के आहार में एक छोटा सा बदलाव या थोड़ी मात्रा में भी एक गलत तत्व आपके बच्चे के पाचन तंत्र के काम करने क्रिया को अस्त व्यस्त कर सकता है। बहुत सी माताएं विशेषकर पहली बार बनी मां अपने बच्चे के पाचन स्वास्थ्य के लिए हमेशा चिंतित रहती हैं। 

इतनी कम उम्र में आप अपने बच्चे को हर चीज के लिए दवा नहीं दे सकती हैं। प्राकृतिक उपचार शिशु के लिए सबसे अच्छे होते हैं क्योंकि उनमें कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। आज हम आपको कुछ ऐसे प्राकृतिक उपचार के बारे में बता रहे हैं जो बच्चों के लिए खासकर बहुत फायदेमंद होते हैं।

बच्चों का पाचन तंत्र खराब होने के संकेत
कब्ज
पेट फूलना
डायरिया
उल्टी होना
बुखार और संक्रमण
चिड़चिड़ाहट और अधिक सोना

 कैसे दिलाएं राहत: स्तनपान करते समय गलत स्थिति भी बच्चों में पाचन समस्याओं का कारण बन सकती है। इससे गैस या एसिड रिफ्लक्स हो सकता है। खिलाते समय यह सुनिश्चित करता है कि बच्चे का सिर उसके पेट से अधिक ऊंचा हो। यह आसन सुनिश्चित करता है कि दूध पेट में चला जाए और हवा ऊपर आ जाए जिसे आसानी से बाहर निकाला जा सकता है। जब आप अपने बच्चे को अपनी गोद में रखते हैं तो सुनिश्चित करें कि आप अपने पैरों को ऐसी स्थिति में रखें कि शिशु का सिर थोड़ा ऊंचा हो या आप गर्दन को सहारा देने के लिए नरम तकिये का भी उपयोग कर सकें।

आपके बच्चे के पेट पर कोमल मालिश पाचन संबंधी समस्याओं को कम कर सकती है। धीरे से अपने बच्चे के पेट बटन के आसपास के क्षेत्र की मालिश करें। ज्यादा जोर से न दबाएं। आप एक परिपत्र गति में अपने बच्चे के पेट की मालिश कर सकते हैं। आप अपने बच्चे के पेट में मालिश देने के लिए कुछ बेबी ऑयल या क्रीम का भी उपयोग कर सकते हैं।

आपका बच्चा हर बार दूध पिलाने के बाद फट जाता है। यह शिशुओं में पाचन समस्याओं को रोकने का एक तरीका भी है। हवा को बाहर निकालने से गैस को रोका जा सकता है और यह आपके बच्चे को दूध थूकने से भी रोकेगा। कुछ मिनट प्रतीक्षा करने के बाद खिलाएं और फिर अपने बच्चे को अपने कंधे पर रखें और धीरे से उसकी पीठ पर थपथपाएं।

अगर आपके बच्चे को इसके सेवन के बाद पाचन समस्याओं का सामना करना पड़ता है, तो अपने बच्चे को अतिरिक्त खाद्य पदार्थ या पेय न दें। केवल डॉक्टर द्वारा सलाह देने तक स्तन के दूध से चिपके रहें। अपने बच्चे को कुछ और खिलाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: these mistakes caused by the mother, the baby's digestive system is weak

More News From life-style

IPL 2019 News Update
free stats