image

आज नयी तकनीक तेजी से आगे जा रही है। हर किसी को स्मार्ट फोन चाहिए ऐसे में बच्चों का भी मन करता है की उन्हें स्मार्ट फोन मिले तो आज हर माता-पिता को यह पता होना चाहिए कि बच्चो के लिए स्मार्टफोन का इस्तेमाल कितना सही है और कितना गलत... 

आज पैरेंट्स की सबसे बड़ी चिंता यही है कि वे अपने बच्चे को स्मार्टफोन कब दें और उनपर किस हद तक नज़र रखी जाए। फोन के अंदर एक पूरी दुनिया बसती है जिसमें अच्छे-बुरे हर प्रकार के विचार प्रसारित होते हैं। स्टडीज में मोटापे या ओबेसिटी का एक बड़ा कारण टीवी देखने की आदत को भी बताया जाता है और ऐसे में बच्चे के हाथ में स्मार्टफोन देना भी ख़तरनाक हो सकता है। आपके बच्चे वीडियो, टीवी शो और गेम खेलने के लिए घंटों फोन से चिपके रहेंगे और ऐसे में बाहरी दुनिया से उनका जुड़ाव कम हो जाएगा। शारीरिक कसरत और खेल भी बंद हो जाएंगे।

शरीर में दर्द: स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते समय हमारे शरीर का पोश्चर सही नहीं रहता। जो हमारे स्वास्थ से रिलेटेड कई तरह की समस्याओं को पैदा करने में सहायक होता है। 

इंफेक्शन: स्मार्टफोन के स्क्रीन पर कई तरह के कीटाणु होते हैं जो हमें दिखाई नहीं देते. लेकिन ये कीटाणु त्वचा संबंधी कई तरह की समस्याओं को उत्पन्न करने में सक्षम है. और ये कीटाणु आपको बीमार भी कर सकते हैं। 

लत: स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने वाले लोग इसके आदी हो जाते हैं। जो बेहद ही खतरनाक साबित हो सकता है। ऐसे में लोग बिना फोन के बेचैनी महसूस करते हैं। यहां तक कि उन्हें कोई अनजाना भय और घबराहट भी महसूस होता है. जो कि एक गंभीर समस्या है। 

भ्रम: कई बार फोन बंद या साइलेंट पर होने के बावजूद लोगों को ये एहसास होता है कि उनका फोन बज रहा है। इसे एक तरह का फोबिया कहा जा सकता है। जिसे नोमोफोबिया कहते हैं. ये भी आपके लिए गंभीर समस्या को पैदा कर सकता है। 

निर्भरता: आज के ज़माने मे लोग अपने स्मार्टफोन पर ज्यादा से ज्यादा निर्भर हो चुके हैं। कई बार तो एक ही घर में बैठे लोग एक दूसरे से मैसेज के जरिए ही बात करते हैं। इससे घर में आपकी छोटी मोटी एक्सरसाइज से भी आप वंचित रह जाते हैं, जो आपके स्वास्थ्य के लिए सही नहीं है। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: disadvantages of children using cellphones

More News From life-style

free stats