image

नई दिल्ली : दिल के काम नहीं करने के कारण कृत्रिम हृदय लगाने की सर्जरी के बाद चमत्कारिक घटना में 52 वर्षीय एक व्यक्ति को नई ज़िंदगी मिली जब उसके अपने दिल ने ही 18 महीने बाद फिर से काम करना शुरु कर दिया। ठीक होता देख डॉक्टरों ने कृत्रिम हृदय को बंद कर दिया और व्यक्ति अब अपने मूल हृदय पर जिन्दा है। बीएलके हार्ट सेंटर के अध्यक्ष और प्रमुख डॉ. अजय कौल ने बताया कि दिल के काम करने के बाद इराक के कारोबारी हानी जवाद मोहम्मद को कृत्रिम दिल लगाया गया था। दिल के काम नहीं करने से आशय ऐसी स्थिति से है जब हृदय की मांसपेशी रक्त को उतना पंप नहीं कर पाती जितना उसे करना चाहिए । 

डोर्न अंगदान करने वालेी की भारी कमी के कारण और उनकी गंभीर स्थिति को देखते हुए हमारे पास कृत्रिम हृदय लगाना ही एकमात्र विकल्प था । 
इस बार जब करीब तीन महीने बाद वह दिखाने आए तो पाया गया कि उनका दिल ठीक हो रहा है और सही से काम कर रहा है. डॉक्टरों की एक टीम ने कृत्रिम अंग को धीरे कर उनके मूल हृदय के व्रियाकलाप पर नजर बनाए रखी। दो महीने में तीन से चार बार ऐसी प्रव्रिया की गयी और पाया गया कि उनका मूल हृदय ठीक हो चुका है।उन्होंने कहा,‘‘अमूमन मूल हृदय 10-15 प्रतिशत तक बेहतर होता है लेकिन यह हृदय ठीक से काम कर रहा था। यह एक मेडिकल चमत्कार है.

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: After 18 months of surgery, the heart of the person began to work again

More News From health

Next Stories
image

free stats