image

आजकल बढ़ते बीमारियों का खतरा बढ़ता ही जा रहा है। जिसके कारण आप कई दवाईयों का सेवन करते हैं। कई लोग मिर्गी रोग से परेशान रहते हैं। मिर्गी रोग भगाने के लिये बालासन, नाड़ी शोधन, कपोतासन, शीर्षासन और चमत्‍कार आसन बहुत फायदेमंद होता है। इससे बचने के लिए कुछ घरेलू उपायों के बारे में पढ़े।

तुलसी है रामबाण- तुलसी कई बीमारियों में रामबाण की तरह काम करता है। तुलसी में काफी मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो मस्तिष्क में फ्री रेडिकल्स को ठीक करते हैं।

कैसे करे तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल- रोजाना तुलसी के 20 पत्ते चबाकर खाने से रोग की गंभीरता में गिरावट देखी जाती है। तुलसी के पत्तों को पीसकर शरीर पर मलने से मिर्गी के रोगी को लाभ होता है।

तुलसी के पत्तों के रस में जरा सा सेंधा नमक मिलाकर 1-1 बूंद नाक में टपकाने से मिर्गी के रोगी को लाभ होता है।

तुलसी की पत्तियों के साथ कपूर सुंघाने से मिर्गी के रोगी को होश आ जाता है।

त्रिफला के चूर्ण का सेवन और कच्ची हरे पत्तेदार सब्जियां - मिर्गी के रोग से पीड़ित रोगी को सुबह के समय गुनगुने पानी के साथ त्रिफला के चूर्ण का सेवन करना चाहिए। तथा फिर सोयाबीन को दूध के साथ खाना चाहिए।

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: epilepsy will be removed from Basil leaves

More News From life-style

Next Stories

image
free stats