image

छींक आना एक समान्य बात है। सर्दियों में समस्या और आम हो जाती है। बार-बार छींक आने से आपके लिए किसी भी चीज पर फोकस करना मुश्किल हो जाता है। अक्सर छींक के साथ नाक से पानी भी निकलता है जिसकी रफ्तार करीब 20 से 40 मीटर प्रति घंटे की होती है और तीस फुट तक जाती है। छींक को रोकना चाहिए या नहीं जब आप किसी सार्वजनिक जगह पर हों, तो कोशिश करें कि छीक रूक जाए।

आपकी छींक से दूसरे लोगों को परेशानी हो सकती है। जैसे दूसरों के सामने छीकना अच्छा नहीं होता वैसे ही छींक को रोकना भी आपके लिए खतरनाक हो सकता है। आपको बता दें कि कई मामलों में तेज छींक को रोकने से आपके इयरड्रम को नुक्सान पहुंचने की शिकायते भी सामने आई हैं। इसके अलावा ये आंखों के ब्लड वेसल को भी प्रभावित करती है।

इसके अलावा छींक का दबाव अन्य क्षेत्रों जैसे खोपड़ी या साइनस की तरफ भी बढ़ जाता है। भीड़ में छींक आने पर भी छींक को रोके नहीं, ऐसी स्थिति में आप मुंह पर रु माल रखकर छींक सकती हैं। इससे आपको संक्र मण को फैलाने से रोकने में मदद मिलेगी। सार्वजनिक जगहों में छींकने से फ्लू, इन्फ्लूएंजा और आम सर्दी मुख्य रोगों के फैलने की संभावना तेज हो जाती है।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Catching can be dangerous for you

More News From health-checkup

IPL 2019 News Update
free stats