image

होली में होने वाली मस्ती हर किसी को बहुत पसंद होती है लेकिन कैमिकलयुक्त रंगों के साइडफेक्ट के डर से आप रंगों को लगाने से डरते हैं। जिसकी वजह से आप होली के दिन बाहर जाने के नाम से भी डरते हैं। यदि आपको भी होली के रंगों से डर लगता है तो आज हम आपको कुछ ऐसे ब्यूटी टिप्स के बारे में बताने जा रहे हैं-

- ऑइल वैक्स में ऑइल का इस्तेमाल किया जाता है। नॉर्मल वैक्स में शुगर होती है और ज्यादा गर्म लगाने पर उससे स्किन जलने का चांस होता है। जबकि ऑइल वैक्स का ज्यादा गर्म यूज करने के बावजूद स्किन पर कोई निगेटिव असर नहीं पड़ता है। वॉटर बेस्ड नॉर्मल वैक्सिंग के दौरान स्किन पर पाउडर लगाकर गर्म वैक्स अप्लाई की जाती है, जबकि ऑयल वैक्स में सबसे पहले स्किन पर लेवेंडर, ऑलिव ऑयल या जैसमीन तेल लगाया जाता है। बालों को रिमूव करते समय छोटी-छोटी स्ट्रिप्स यूज की जाती हैं।

ऑयल वैक्सिंग से शाइनिंग आने का सबसे बड़ा कारण है कि यह बालों को जड़ से रिमूव करता है और इस दौरान डेड लेयर निकल जाती है। इस तरह की वैक्सिंग के दौरान दर्द भी कम होता है। बाल कितने भी हार्ड हों, आसानी से निकल आते हैं। अगर बात कीमत की करें, तो नॉर्मल वैक्स और ऑयल वैक्स में 200 से 300 रुपये तक का अंतर है।

 

 

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: home remedies for Holi colours skin elergy

More News From life-style

free stats