image

हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री कोई नया नाम तो नहीं है, मगर टूरिज्म इंडस्ट्री के चलते इस उद्योग को काफी बढ़ावा मिला है और इसी के साथ यहां काम करने वाले लोगों की मांग भी बढ़ी है।

कई क्षेत्रों में मिलेगा रोजगार: रोजगार की दृष्टि से यह क्षेत्र काफी बड़ा है। प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से दो करोड़ से अधिक लोगों को रोजगार देने वाले इस विशाल क्षेत्र में होटल, खानपान और ट्रैवल/टूरिज्म आदि शामिल हैं। एकोमोडेशन के तहत होटल, मोटल, बैड-ब्रेकफास्ट और अन्य लॉजिंग बिजनैस को रखा गया है। फूड एंड बेवरेज के तहत रैस्टोरेंट, फास्ट फूड चेन आदि को शामिल किया जाता है और ट्रैवल/ टूरिज्म के तहत एयरलाइन्स, ट्रेन और क्रूजशिप को रखा गया है। इसमें आने वाले अन्य प्रमुख काम हैं फ्रंट ऑफिस, सुरक्षा एवं बचाव, अकाऊंट्स, कम्प्यूटर ऑप्रेशन, हाऊसकीपिंग, रख-रखाव, मैकेनिकल, इलैक्ट्रिकल, सॉफ्टवेयर डिवैल्पमैंट, सेल्स व मार्कीटिंग, स्टोर कीपिंग आदि। इसके अलावा रैस्तरां मैनेजर, कुक, बार टेंडर, गार्डनर, मैनेजर (ऑप्रेशन्स), मैनेजर (सेल्स), एयर होस्टेस/केबिन क्रू आदि को भी काम मिलता है।

होटल और रिजॉर्ट स्टाफ : चाहे आप होटल के मैनेजर हों या अन्य सहायक स्टाफ, अतिथि के आने और उसके वापस जाने तक आपको बेहतरीन सेवा देनी होती है। यहां पर होटल मैनेजर के अलावा फ्रंट डैस्क क्लर्क/रिसैप्शनिस्ट, रिजॉर्ट मैनेजर, हाऊसकीपर, होटल अकाऊंटैंट आदि स्टाफ की भी बेहद जरूरत होती है। .

एयरलाइंस/क्रूज सर्विस : इसके तहत दो प्रमुख क्षेत्र हैं- एयरलाइन ट्रैवल और लग्जरी क्रूज सेवा। चाहे आप ऑप्रेशन मैनेजमैंट से जुड़े हों या कंपनी के नेतृत्व में से एक हों, या लॉजिस्टिक्स या रिजर्वेशन से जुड़े हों, आपको अपने यात्रियों को सहज और सुरक्षित महसूस कराना होता है। इसमें फ्लाइट अटेंडैंट, एयर होस्टेस, क्रूज स्टाफ, शिप कैप्टन, ट्रैवल सिक्योरिटी, लगेज पोर्टर, हैंडीकैप्ड ट्रैवलर एड आदि का काम प्रमुख होता है।

फूड और बैवरेज सेवा : हॉस्पिटैलिटी के क्षेत्र में ग्रैजुएट युवा के लिए रैस्तरां में तो अवसर होते ही है, बार, कैफेटेरिया आदि में भी उनके लिए काम होता है। पूरी साफ-सफाई के साथ आकर्षक तरीके से पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराना ऐसे स्टाफ की जिम्मेदारी होती है। इस क्षेत्र में तमाम तनावों को नजरअंदाज करते हुए विनम्र और व्यवस्थित रहना होता है। इस क्षेत्र में अनेक मौके हैं, जिनमें किचन स्टाफ, शेफ, वेटर, क्लब और रैस्तरां मैनेजर आदि प्रमुख हैं।

एंटरटेनमैंट मैनेजर : हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री में मनोरंजन और उससे जुड़े लोगों की भी अलग भूमिका होती है। बहुत सारे पर्यटकों को मनोरंजक गतिविधियों की जरूरत होती है। किसी को एडवैंचर की जरूरत होती है तो किसी का मनोरंजन एम्यूजमैंट पार्क  में होता है। इसके लिए अलग-अलग क्षेत्र के विशेषज्ञ जुड़ते हैं।

ईवैंट प्लानर : टूरिज्म और हॉस्पिटैलिटी मैनेजमैंट का कोर्स करने वाले युवाओं के सामने ईवैंट प्लानर का भी विकल्प है। ये इवैंट की प्लानिंग से लेकर इवैंट के सफलतापूर्वक संचालन में शामिल होते हैं। इस क्षेत्र में प्रमुख करियर हैं वैडिंग कोऑर्डिनेटर,कॉन्सैप्ट/फैस्टिवल ऑर्गनाइजर, पार्टी प्लानर, कॉन्फ्रैंस होस्ट आदि।

हॉली-डे काऊंसलर : कई बड़ी-बड़ी ट्रैवल एजैंसियां अपने यहां ट्रैवल काऊंसलर नियुक्त करने लगी हैं। ऐसे काउंसलर अपने ट्रैवलर को उनकी पसंद के अनुसार, डैस्टिनेशन और तरह-तरह के स्पैशल ऑफर की जानकारी देते हैं। ऐसे लोग ट्रैवल एजैंट बन सकते हैं, बुकिंग एजैंट बन सकते हैं, टूरिस्ट इन्फॉर्मेशन सैंटर के प्रतिनिधि बन सकते हैं, टूर गाइड का काम कर सकते हैं और ऑनलाइन क्लाइंट सर्विस रिप्रेजैंटेटिव के रूप में भी करियर बना सकते हैं।

जरूरी योग्यता : इस क्षेत्र में बेहतर करियर के लिए इच्छुक युवाओं को मेहनती तो होना ही चाहिए, लोगों के साथ सहज तरीके से संवाद करने की भी उनकी क्षमता अच्छी होनी चाहिए। अगर किसी विदेशी भाषा का ज्ञान है और कम्प्यूटर की जानकारी है तो यह आपके लिए अच्छा रहेगा। स्किल के साथ जो योग्यता जरूरी है, वह है 12वीं। होटल मैनेजमैंट में डिग्री कोर्स के लिए 12वीं पास होना जरूरी है। होटल मैनेजमैंट में सर्टीफिकेट कोर्स भी किया जा सकता है, जिसकी अवधि छह महीने से एक साल तक की है। इसके अलावा एक साल का पोस्ट ग्रैजुएट कोर्स भी है। इसी क्षेत्र के ग्रैजुएट्स को भी सर्विस सैक्टर के दूसरे क्षेत्रों जैसे बैंकिंग,  आदि में अच्छे विकल्प मिल सकते हैं। 

कहां से करें पढाई :  जैसी बड़ी होटल चेन्स में इन-हाऊस ट्रेनिंग प्रोग्राम होता है। भारत सरकार ने दिल्ली, ग्वालियर, बेंगलुरू, गोवा, ओडिशा, असम, गुजरात, मुंबई, अहमदाबाद, चेन्नई और देश के दूसरे मुख्य शहरों में होटल मैनेजमैंट के कई इंस्टीट्यूट स्थापित किए हैं। यहां तक कि कई प्राइवेट मैनेजमैंट संस्थानों में भी होटल मैनेजमैंट की क्लासेज होती हैं। द स्किल डिवैल्पमैंट काऊंसिल ऑफ इंडिया भी छात्रों को इससे संबंधित जरूरी स्किल्स की ट्रेनिंग देता है।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: How to Make a Career in Hospitality

More News From career

free stats