image

चाहे विश्व के किसी भी देश या जगह की महिलाएं हों, वे आमतौर पर  पुरुषों के मुकाबले अधिक लंबा जीवन जीती हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा हाल में जारी रिपोर्ट के मुताबिक इसका मुख्य कारण स्वास्थ्य के प्रति दोनों के रुख में भिन्नता होना है। स्त्रियों की तुलना में अधिक पुरुष गैर संक्रामक रोगों और सड़क दुर्घटनाओं में मारे जाते हैं। साथ ही पुरुषों की आत्महत्या दर भी स्त्रियों से अधिक होती है।

7 अप्रैल को विश्व स्वास्थ्य दिवस है। इस अवसर पर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 2019 विश्व स्वास्थ्य आंकड़े जारी किये। रिपोर्ट में लैंगक रूप से अलग-अलग आंकड़े जारी किए। जिससे विश्व के विभिन्न स्थलों के लोगों की स्वास्थ्य स्थिति और मांग के बारे में जानकारी दी गयी है। रिपोर्ट के मुताबिक वैश्विक दायरे में खास तौर पर समृद्ध देशों में स्त्रियों की जीवन-आयु आम तौर पर पुरुषों से ऊंची है। उदाहरण के लिए 2016 विश्व में पुरुषों की आत्महत्या दर स्त्रियों से 75 प्रतिशत अधिक थी। सड़कों पर 15 साल से अधिक के पुरुषों के सड़क हादसों में मरने की दर भी महिलाओं से दुगुनी थी।

रिपोर्ट में यह भी जाहिर हुआ है कि मौत के 40 प्रमुख कारणों में से 33 कारणों से महिलाओं की तुलना में पुरुषों की जीवन-आयु दर कम होती है। इसलिए प्रारंभिक स्वास्थ्य सेवा में सुधार कर गैर संक्रामक रोगों का कारगर प्रबंध करना होगा। साथ ही अन्य जोखिम तत्वों को भी रोकने की जरूरत है।

 

(साभार-चाइना रेडियो इंटरनेशनल, पेइचिंग)

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Due to the life-age difference between women and men

More News From international

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats