image

 

चीन द्वारा सहायता में दिया गया रक्षक जहाज़ 22 अगस्त को श्रीलंका की नौसेना में शामिल हो गया। श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाल सिरिसेना, नौसेना के कमांडर पायल दे सिल्वा, श्रीलंका स्थित चीनी राजदूत छंग श्येहुआन, सैन्य अधिकारी श्यू च्येनवेई और श्रीलंका की सेनाध्यक्ष व सरकारी अधिकारियों ने जहाजों की पंक्ति में शामिल होने के समारोह में भाग लिया।

सिरिसेना ने कप्तान को हरी झंड़ी दिखाने का आदेश दिया। उन्होंने रक्षक जहाज़ की श्रेष्ठता की प्रशंसा की और चीन सरकार का आभार किया।

बताया जाता है कि इस रक्षक जहाज़ की लंबाई और चौड़ाई क्रमशः 112 और 12.4 मीटर है और इसका भार 2300 टन है। पंक्ति में शामिल होने के बाद इस जहाज़ को पराक्रमबाहु का नाम दिया गया, जो श्रीलंका के इतिहास में सम्मानित राजा का नाम है। यह रक्षक जहाज़ गश्ती, जांच और राहत आदि काम करेगा।

(साभार---चाइना रेडियो इंटरनेशनल ,पेइचिंग)

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Guard ship assisted by China joins Sri Lanka Navy

More News From china

Next Stories
image

free stats