image

20 सितंबर की शाम को संयुक्त राष्ट्र स्थित चीन के स्थाई प्रतिनिधिमंडल द्वारा चीन जनवादी गणराज्य की स्थापना की 70वीं वर्षगांठ मनाने के लिए आयोजित सत्कार समारोह में संयुक्त राष्ट्र के कई वरिष्ठ अधिकारियों और संयुक्त राष्ट्र में स्थित दूसरे देशों के कई प्रतिनिधियों ने चीन के विकास में प्राप्त उपलब्धियों और विश्व शांति व वैश्विक विकास के लिए चीन द्वारा दिए गए योगदान की बड़ी सराहना की।

संयुक्त राष्ट्र के शांति रक्षा मामलों के लिए उप महासचिव जीन पियरे लैक्रोइक्स ने चीन द्वारा संयुक्त राष्ट्र के दिए समर्थन का आभार किया। उन्होंने कहा कि चीन की स्थापना की 70वीं वर्षगांठ के मौके पर वह पूरी दुनिया के विभिन्न क्षेत्रों में काम कर रहे चीनी शांति सैनिकों से धन्यवाद कहना चाहता है। चीनी शांति सैनिकों ने विश्व शांति की रक्षा के लिए बड़ा योगदान किया। चीन की मदद से ही संयुक्त राष्ट्र दुनिया में शांति अभियान कर सकता है।

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के प्रभारी अचिम स्टेनर ने कहा कि चीन ने न केवल लाखों लोगों को गरीबी से बाहर निकाला है, बल्कि भविष्य के विकास के लिए औद्योगिक और सेवा उद्योगों के लिए भी एक ठोस आधार दिया है। उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण, जलवायु परिवर्तन और शिक्षा में चीन के प्रयासों ने अन्य देशों के लिए उपयोगी अनुभव प्रदान किया है।

संयुक्त राष्ट्र में स्थित रूस के स्थाई प्रतिनिधि वसीली नेबेंज्या ने कहा कि इन दर्जनों वर्षों में चीन ने जबरदस्त प्रगति की है। अब चीन दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में से एक बन गया है। रूस और चीन संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में घनिष्ठ सहयोग क माध्यम से संयुक्त राष्ट्र चार्टर आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था की रक्षा करेंगे।

संयुक्त राष्ट्र में स्थित कजाकिस्तान के स्थाई प्रतिनिधि कैरेट उमारोव ने कहा कि चीन की स्थापना के बाद इन 70 वर्षों में चीन ने तेजी से विकास हासिल किया है। अब चीन अंतरराष्ट्रीय मंच पर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। चीन द्वारा पेश बेल्ट एंड रोड की पहल ने संबंधित देशों को विकास, प्रगति और समृद्ध लाया है। कजाकस्तान इस पहल को बहुत महत्व देता है।

 

(साभार-चाइना रेडियो इंटरनेशनल, पेइचिंग)

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Congratulations to the United Nations and many countries on the 70th anniversary of the founding of China

More News From china

Next Stories
image

free stats