image

वाशिंगटनः नासा के लूनर रीकॉनिस्सैंस ऑर्बिटर द्वारा कैप्चर की गई इमेजरी के विेषण के अनुसार, चंद्रमा लगातार सिकुड़ता जा रहा है, इसकी सतह पर झुर्रियां पड़ रही हैं। लूनर रीकॉनिसैंस ऑर्बिटर द्वारा कैद की गई 12,000 से अधिक तस्वीरों के विेषण से खुलासा हुआ है। अध्ययन में पाया गया है कि चंद्रमा के उत्तरी ध्रुव के पास चंद्र बेसिन ‘मारे फ्रिगोरिस’ में दरार पैदा हो रही है और यह अपनी जगह से खिसक भी रहा है।

बता दें कि कई विशाल बेसिनों में से एक चंद्रमा का मारे फ्रिगोरिस भूवैज्ञानिक नजरिए से मृत स्थल माना जाता है। जैसा की धरती के साथ है, चंद्रमा में कोई भी टैक्टोनिक प्लेट नहीं है। बावजूद यहां टैक्टोनिक गतिविधियों के पाए जाने से वैज्ञानिक हैरत में हैं। यह बदले में इसकी सतह को झुरीर्दार बनाता है, एक अंगूर के समान जो किशमिश में सिकुड़ जाता है।

वैज्ञानिकों का मानना है कि चंद्रमा में ऐसी गतिविधि ऊर्जा खोने की प्रक्रिया में 4.5 अरब साल पहले हुई थी। ऊर्जा खोने की प्रक्रिया के कारण ही चंद्रमा पिछले लाखों वर्षो से धीरे-धीरे लगभग 150 फुट तक सिकुड़ गया है।


 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: The Disclosure Of More Than 12000 Photographs Captured, The Moon Is Shrinking

More News From international

IPL 2019 News Update
free stats