image

दुबईः जब दुनिया भर के देश अतिवाद के कारण आए दिन होने वाली हिंसा से जूझ रहे हैं, ऐसे में संयुक्त अरब अमीरात में मस्जिद बनाने और रमजान के पावन महीने में करीब 800 कर्मियों को इफ्तार कराने वाले एक भारतीय ईसाई धार्मिक सद्भावना की मिसाल पेश कर रहे हैं। केरल के कायमकुल के रहने वाले साजी चेरियन 49 ने फुजैरा में मुस्लिम कर्मियों के लिए पिछले साल एक मस्जिद बनवाई थी। उन्होंने यह मस्जिद कर्मियों के उस आवासीय स्थल पर बनवाई है जो उन्होंने 53 कंपनियों को किराए पर दिया है।

चेरियन ने देखा कि कर्मी नमाज पढ़ने के लिए निकटवर्ती मस्जिद में जाते हैं, जिसके लिए उन्हें अपनी कमाई टैक्सी किराए पर खर्च करनी पड़ती है। यह देखने के बाद उन्होंने मरियम उम्म ईसा मस्जिद का निर्माण करवाया। जानकारी के अनुसार, कुछ सौ दिरहम के साथ 2003 में यूएई पहुंचे चेरियन कई कंपनियों के कर्मियों एवं अधिकारियों समेत करीब 800 लोगों को इफ्तार कराते हैं।

समाचार पत्र ने चेरियन के हवाले से कहा कि मस्जिद पिछले साल रमजान की 17वीं रात को खुली थी। इसलिए, मैं केवल शेष दिनों के लिए ही इफ्तार करवा पाया था। इस साल से, मैं हर रोज ऐसा करुंगा। मस्जिद में बुधवार को इफ्तार करने वाले पाकिस्तानी बस चालक अब्दुल कायूम 63 ने कहा कि दुनिया को चेरियन जैसे लोगों की आवश्यकता है। यदि दुनिया में उनके जैसे लोग नहीं होंगे, तो दुनिया खत्म हो जाएगी। हम उनके लिए दुआ करते हैं।

एक कंपनी में भारतीय सहायक प्रबंधक वजास अब्दुल वाहिद ने कहा कि इलाके में 50 से अधिक कंपनियों के कर्मी रहते हैं। उन्होंने कहा कि वरिष्ठ कर्मी एवं श्रमिक अलग-अलग आवास में रहते हैं, लेकिन हम जब यहां आते हैं, तब हम बराबर होते हैं. हम साथ नमाज पढ़ते हैं और इफ्तार करते हैं।

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Presenting The Example Of Indian Christians, The Masjid Built In UAE In The Holy Month Of Ramadan

More News From international

IPL 2019 News Update
free stats