image

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, उपलब्धता में परेशानी की खबरें मिलने के बाद राष्ट्रीय राजमार्गों पर स्थित 560 टोल प्लाजा पर 15 दिसंबर से सभी लेन फास्टैग लेन होंगे। फास्टैग की उपलब्धता में होने वाली दिक्कतों को देखते हुए केंद्र सरकार ने इसे एक दिसंबर के बजाय 15 दिसंबर से अनिवार्य करने का फैसला किया है। केंद्र सरकार अब तक 70 लाख से ज्यादा फास्टैग जारी कर चुकी है। जानकारी के अनुसा कल से टोल प्लाजा पर फास्ट टैग शुरू हो गया लेकिन सरकार ने अब इसे 15 दिसंबर तक अनिवार्य कर दिया है।

डिजिटल भुगतान के प्रोत्साहन, समय की बचत के लिहाज से देश के सभी टोल प्लाजा पर तमाम लेन 15 दिसंबर तक फास्ट टैग लेन बना दिए जाएंगे। फास्ट टैग लेन होने से वाहनों को आवागमन में कम वक्त लगेगा, जिससे ईंधन पर होने वाले खपत और समय की बचत होगी। बहुत से लोगों को फास्ट टैग के बारे में अधिक जानकारी नहीं होती। यहां जाने फास्ट टैग क्या है, कैसे इसका इस्तेमाल होता है।

जाने क्या फास्ट टैग क्या हैः 

वाहन के विंडस्क्रीन में फास्टैग लगाया जाता है और इसमें रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) लगा होता है। जैसे ही आपकी गाड़ी टोल प्लाजा के पास आ जाती है, तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपके वाहन के विंडस्क्रीन में लगे फास्टैग के संपर्क में आते ही, आपके फास्टैक अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क काट देता है और आप बिना वहां रूके अपना प्लाजा टैक्स का भुगतान कर देते हैं। वाहन में लगा ये टैग, आपके प्रीपेड खाते के सक्रिय होते ही अपना कार्य शुरू कर देगा। वहीं जब आपके फास्टैग अकांउट की राशि खत्म हो जाएगी, तो आपको उसे फिर से रिचार्ज करवाना पड़ेगा। फास्टैग की वैधता 5 वर्ष तक की होगी यानि पांच वर्ष के बाद आपको नया फास्टैग अपनी गाड़ी पर लगवाना होगा।


फास्टैग के फायदेः

फास्टैग की मदद से आपका समय बचने के साथ-साथ आपके पेट्रोल या डीजल की भी बचत होगी। इतना ही नहीं साल 2016-17 के बीच इसका इस्तेमाल करने वाले लोगों को सभी टोल भुगतानों पर 10% का कैशबैक भी मिलेगा। वहीं 2017-2018 के बीच आपको 7.5 %, कैश बैक 2018-2019 के बीच 5% कैश बैक और 2019-2020 तक 2.5 %  कैश बैक मिलेगा। आपका ये कैश बैक एक सप्ताह के भीतर आपके फास्टैग खाते में आ जाएगा। अभी तक फास्टैग केवल भारत के चुनिंदा शहरों के टोल प्लाजा पर ही लागू था। मगर इसके सफल होने के बाद सड़क एवं परिवहन मंत्रालय द्वारा इसे जल्द ही देश के हर टोल प्लाजा पर शुरू करने की कोशिश की जा रही है।


एसएमएस की होगी सुविधाः

जब भी आप फास्टैग लगे वाहन से किसी टोल प्लाजा को पार करेंगे, तो फास्टैग अकाउंट से आपका शुल्क कटते ही आपके पास एक एसएमएस आ जाएगा। एसएमएस के जरिए आपके फास्टैग अकाउंट से कितनी राशि काटी गई है उसके बारे में आपको जानकारी दी जाएगी।

इन बैंकों से होगा फास्ट टैग रिचार्जः

आप क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, आरटीजीएस और नेट बैंकिंग के माध्यम से अपने फास्ट टैग अकाउंट को रिचार्ज कर सकते हैं। फास्ट टैग खाते में कम से कम 100 रूपए और ज्यादा से ज्यादा एक लाख तक रिचार्ज कराया जा सकता है। आप किसी भी प्वाइंट ऑफ सेल (पीओएस) के अंदर आनेवाले टोल प्लाजा और एजेंसी में जाकर अपना फास्टैग स्टीकर और फास्ट टैग अकाउंट खुलवा सकते हैं। राष्ट्रीय हाईवेज अथॉरिटी ऑफ इंडिया की वेबसाइट में जाकर आप अपने आसपास के प्वाइंट ऑफ सेल की जगह का पता कर सकते है।

अभी पीओएस के अंदर आईसीआईसीआई बैंक और एक्सिस बैंक ही आते हैं। आने वाले समय में इसके अंदर आईडीएफसी बैंक और एसबीआई बैंक भी जल्द शामिल कर लिए जाएंगे। वहीं आप एसबीआई बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, सिंडिकेट बैंक, पेटीएम, करूर व्यास बैंक, आचडीएफसी बैंक के जरिए आप फास्टैग अकांउट को रिचार्ज कर सकते हैं। फास्ट टैग अकांउट खोलाने के वक्त आपको दिए गए एक फॉम के साथ निम्नलिखित दस्तावेजों को भी जमा करवाने की आवश्यकता पड़ेगी, जो कि इस प्रकार हैं-
1. वाहन के पंजीकरण प्रमाण पत्र (आरसी)
2. वाहन मालिक के पासपोर्ट तस्वीर
3. वाहन मालिक के केवाईसी दस्तावेज और कोई भी दस्तावेज जिसपर आपके घर का पता हो।


 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Fast tag starts on toll plaza from tomorrow, will be fully implemented by December 15

More News From national

Next Stories
image

free stats