image

म्यूनिखः गैर सरकारी संगठन ‘सेव द चिल्ड्रन इंटरनेशनल’ ने शुक्रवार को कहा कि युद्ध और उसके प्रभाव की वजह से हर साल कम से कम 1,00,000 बच्चों की मौत हो जाती है। इसमें भूख और मदद ना मिलने जैसे प्रभाव शामिल हैं। एक अनुमान के मुताबिक दस युद्धग्रस्त देशों में 2013 से 2017 के बीच युद्ध की वजह से 5,50,000 बच्चे दम तोड़ चुके हैं। उनकी मौत युद्ध और उसके प्रभावों से हुई है, जिसमें भूख, अस्पतालों और बुनियादी ढाचों को हुआ नुकसान, स्वास्थ्य देखभाल तक पहुंच की कमी, स्वच्छता और मदद नहीं मिल पाने जैसे कारण शामिल हैं।

Read More पुलवामा हमले पर पाकिस्तान ने दिया बड़ा बयान, कहा-पहले हाे जांच

Read More पुलवामा हमला: आतंक पर चीन की दोगली राजनीति, हमले की निंदा पर यहां डाला अड़िंगा

संगठन की मुख्य कार्यकारी अधिकारी थॉरनिंग शिमिड्ट ने एक बयान में कहा कि हर पांच में से करीब एक बच्च संकटग्रस्त इलाकों में रह रहा है। बीते दो दशक में यह सबसे बड़ी संख्या है। सेव द चिल्ड्रन ने कहा कि उसने ओस्लो स्थित ‘पीस रिसर्च इंस्टिट्यूट’ के साथ अध्ययन में पाया कि 2017 में 42 करोड़ बच्चे संकटग्रस्त इलाकों में रह रहे थे।

Read More पुलवामा हमलाः UP के शहीद हुए 12 जवान, परिजनों को 25 लाख के साथ दी जाएगी नौकरी

Read More पुलवामा हमले के मुजरिमों को मिले कड़ी सजा: पुतिन

यह दुनिया भर के बच्चों की संख्या का 18 फीसदी हिस्सा है और बीते साल के मुकाबले इसमें 3 करोड़ बच्चों का इजाफा हुआ है। अफगानिस्तान, मध्य अप्रीकी गणराज्य, कांगो, इराक, माली, नाइजीरिया, सोमालिया, दक्षिण सूडान, सीरिया और यमन सबसे संकटग्रस्त देश हैं।

Read More कांग्रेस दुख की घड़ी में सरकार तथा सुरक्षा बलों के साथ: राहुल गांधी

Read More पाकिस्तान आतंकवादी संगठनों को मदद करना तुरंत करें बंद: अमेरिका

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Death Of So Many Millions Of Children Every Year Due To War

More News From international

free stats