image

दिल्ली: मेगा स्टार चिरंजीवी ने साल 2017 में अपनी राजनीतिक पार्टी प्रजा राज्यम शुरू की थी लेकिन मेघा ब्रदर्स इस पार्टी को पावर में लाने में कामयाब नहीं हो पाए जिसके कारण बाद में इस पार्टी का कांग्रेस में विलय हो गया। पावर स्टार इस निर्णय से खुश नहीं थे और इसलिए उन्होंने अपने आपको परिवार से अलग कर लिया। पवन कल्याण ने 2014 में जन सेना पार्टी नामक एक नया राजनीतिक संगठन बनाया। चुनाव लड़ने के बजाय, पावर स्टार ने पिछले चुनावों में टीडीपी और भाजपा को अपनी पार्टी का समर्थन दिया और दोनों दलों को राज्य में और केंद्र में सत्ता में लाने में मददगार साबित हुई। हालांकि, इन सभी घटनाक्रमों का मेगा परिवार के साथ अच्छा नहीं हुआ, जो पार्टी की घटनाओं और गतिविधियों से दूर रहे।

लोकसभा चुनाव से पहले Whatsapp ने शुरू की 'खुशी सांझा करो अफवाह नहीं' कैम्पेन

समय के साथ कई सालो में, पवन कल्याण और चिरंजीवी ने अपने मतभेदों को सुलझा लिया और कुछ इवेंट्स पर एक साथ दिखाई दिए। मेगास्टार और उनके परिवार के अन्य सदस्यों को पावर स्टार की पार्टी के लिए प्रचार करने की उम्मीद थी। लेकिन वे पार्टी से दूर रहे, जबकि अग्न्याथवासी स्टार ने डेढ़ साल तक अकेले राज्य का दौरा किया। चिरंजीवी के दूसरे भाई नागबाबू हाल ही में जन सेना पार्टी में शामिल हुए और नरसापुर सीट से सांसद के उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं। दूसरी ओर, मेगा फैन्स ने मेगास्टार को पवन कल्याण के समर्थन की उम्मीद की, लेकिन अपने भाई को अकेले जाने देने का फैसला किया।

जेट एयरवेज को आर्थिक तंगी से निकालने के लिए विजय माल्या ने बैंकों से की गुहार, कही ये बात

चिरंजीवी एक अजीब परिस्थिति में थे जब उनके भाई के नाराज प्रशंसकों ने हाल ही में सार्वजनिक उपस्थिति के दौरान उन्हें घेर लिया। मेगा फैन्स ने एक सार्वजनिक उपस्थिति के दौरान चिरंजीवी को घेर लिया और उनसे जबरदस्ती 'जय जन सेना' के नारे लगवाए। इस चिंताजनक स्थिति के बाद चिरंजीवी ने राज्य में किसी भी तरह की प्रेस कॉन्फ्रेंस पर अपनी उपस्थिति को चुवानों तक टालने का निर्णय लिया है। मेगा पावर स्टार राम चरण, जो अपने चाचा से बहुत प्यार करते हैं, जन सेना पार्टी के चुनाव प्रचार से दूर रहे। मेगा परिवार में लगभग दस फिल्म नायक हैं और उनमें से शायद ही कोई अभिनेता का समर्थन करने के लिए आगे आ रहा है। यहां तक कि वरुण तेज अपने पिता नागा बाबू को सांसद सीट जीतने में मदद नहीं कर रहे हैं।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Learn why Chiranjeevi and Ramacharan are not campaigning for the political party of Pawan Kalyan

More News From politics

IPL 2019 News Update
free stats