बाॅलीवुड दुनिया से जुड़े सभी कलाकार अपने में एक खास स्थान रखता है जो अपने टेलेंट के बल पर सभी दर्शकों और फेंस का दिल जीत लेते हैं, इन्ही कलाकारों में मुख्य नाम है गुलजार जी का। बता दें गुलजार की पहचान प्रसिद्ध गीतकार के रुप में की जाती हैं। इनका जन्म 18 अगस्त 1936 को दीना, झेलम जिला पंजाब में हुआ। सिख परिवार में जन्मे गुलजार का असली नाम संपूर्ण सिंह कालरा है। इन्होंने अपने टेलेंट के बल पर ना केवल देश में बल्कि विदेशों में भी खूब नाम कमाया। आइए आज हम आपको इनके जन्मदिन पर इनके जीवन से जुड़ी कुछ बातों के बारे में बताएंगे-

READ MORE: B'day Spl: शादीशुदा खुशहाल ज़िन्दगी में आखिर क्यों मां बनने का सुख नहीं चाहती थी अरुणा ईरानी, जाने कुछ अनजानी बातें 

मशहूर गीतकार गुलजार ने 20 बार फिल्मफेयर और 5 बार राष्ट्रीय पुरस्कार अपने नाम कर चुके हैं। इसके साथ ही 2010 में उन्हें स्लमडॉग मिलेनियर के गाने 'जय हो' के लिए ग्रैमी अवॉर्ड से भी नवाजा जा चुका है। वहीं गुलजार को प्रतिष्ठित दादा साहब फालके पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है।

गैरेज में करते थे काम-
बता दें, विभाजन के समय गुलजार का परिवार पंजाब के अमृतसर में आकर बस गया। वहीं गुलजार मुंबई चले आए। मुंबई में गुलजार ने एक गैरेज में बतौर मैकेनिक काम किया। वहीं खाली समय में शौकिया तौर पर कविताएं लिखने लगे। लेकिन कुछ वक्त बाद उन्होंने गैरेज का काम छोड़ हिंदी सिनेमा के मशहूर निर्देशक बिमल राय, हृषिकेश मुख़र्जी और हेमंत कुमार के सहायक के रूप में काम करना शुरू कर दिया।

गुलजार अपने काम के साथ ही अपने निजी जीवन को लेकर भी सुर्खियों में रहे थे। गुलजार ने 60 और 70 के दशक की मशहूर अभिनेत्री राखी से शादी की थी। लेकिन उनकी शादी लंबे वक्त तक नहीं टिकी और दोनों का तलाक हो गया। इस बारे में गुलजार की बेटी मेघना कहती हैं- अच्छा ही हुआ दोनों अलग हो गए। क्योंकि मतभेद होने के बावजूद साथ रहने से अच्छा है सुकून के साथ अलग-अलग रहना। दोनों ने अपने एकाकीपन को काम से भर लिया है।'

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: gulzar birthday special

More News From entertainment

Next Stories
image

free stats