image

भगवान श्रीकृष्ण के जीवन से जुड़ी हर घटना और रासलीलाओं के बारे में आप विस्तार से जानते होंगे। कान्हा की जन्मभूमि और कर्मभूमि मथुरा सभी धार्मिक स्थलों के लिए प्रचलित हैं। जहां भक्त दूर-दूर से दर्शन के लिए आते हैं। आज हम आपको मथुरा में मौजूद कुछ ऐसे पवित्र स्थलों के बारे में बताने जा रहे हैं जो श्रीकृष्ण और अन्य देवी-देवताओं के बारे में बताता है। 

मथुरा के पूर्वी क्षेत्र में यमुना के तट के निकट स्थित है श्रीनारद टीला। यह टीला देवऋषि नारद को समर्पित है और उन्हीं के नाम पर टीले का नामकरण हुआ है। यही वह पवित्र स्थान है, जहां श्रीकृष्ण भगवान के अवतरण से कई वर्ष पूर्व नारद मुनि ने तपस्या की थी। सनातन धर्म की मान्यताओं के अनुसार, बृज की भूमि इतनी पवित्र है कि स्वयं देवता गण यहां आकर तप करते रहे हैं। यह इस भूमि की पवित्रता ही है कि कान्हा ने भी यहीं अवतार लिया।

Read More: वास्तुशास्त्र:  अगर आर्थिक परेशानियों से हैं परेशान तो जरुर अपनाए ये उपाय

Read More: आज अंजान व्यक्ति से मुलाकात खोलेगी आय के नए साधन, जानिए क्या कहता है आपका अंकराशिफल

भगवान विष्णु के भक्त ध्रुव को कौन नहीं जानता! भक्त की भक्ति और श्रीहरि की शक्ति ही है कि परमपिता का अनन्य भक्त ध्रुव आज भी अंतरिक्ष के सबसे चमकीले तारे के रूप में चमक रहा है। बृज की धरती पर मथुरा के पूर्वी भाग में स्थित ध्रुव टीला, वही स्थान है जहां पिता द्वारा गोद से उतारे जाने से आहत बालक ध्रुव ने भगवान विष्णु की तपस्या की थी।

सप्तऋषि टीला भी मथुर में ही स्थित है। यह टीला ध्रुव टीले के समीप ही है। जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है कि इसका संबंध सनातन धर्म में परम पूजनीय स्थान रखनेवाले सात ऋषियों से है। यही वह स्थान है, जहां ऋषि विश्वामित्र के साथ सभी ऋषियों ने तपस्या की थी।

कंस टीला यमुना किनारे परिक्रमा मार्ग पर मथुरा में स्थित है। यह करीब 5 हजार साल पुराना है। यही वह पौराणिक स्थल है, जहां युद्ध के दौरान श्रीकृष्ण ने कंस को लुढ़का दिया था। इसीलिए इसे कंस टीला कहा जाता है। इसकी ऊंचाई 40 फीट है। इस टीले पर एक मंदिर का निर्माण किया गया है। जहां, श्रीकृष्ण और बलराम भगवान की मूर्तियां स्थापित हैं।

कंकाली टीला मथुरा में भूतेश्वरी योगमाया परिक्रमा मार्ग पर स्थित है। इस टीले पर कंकाली देवी का मंदिर निर्मित है। इसलिए इसका नाम कंकाली टीला है। मान्यता है कि कंकाली देवी कंस की आराध्य देवी थीं। वह यहां पूजा-अर्चना किया करता था। कई साल पहले यहां उत्खनन कार्य हुआ तो टीला क्षेत्र में कृष्ण कालीन कुंड मिलने के साथ ही जैन धर्म से जुड़े कई अवशेष भी प्राप्त हुए।

Read More: आज आपका बढ़ेगा सामाजिक मान-सम्मान, जानिए क्या कहते हैं आपके सितारें

Read More: Viral photos: डिफरेंट प्लाजो में नजर आई तापसी पन्नू, पहली बार रिलेशनशिप को लेकर खोलें ये राज

Read More: 19 साल बाद साथ काम करेंगें सलमान और भंसाली, लव-स्टोरी पर आधारित होगी फिल्म

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: mathura famous and historical places

More News From dharam

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats