image

ग्रहों की चाल समय-समय पर बदलती रहती है। जिससे सभी राशियों और कुंडली पर बुरा असर पड़ता है। ग्रह-नक्षत्रों की चाल बदलने से सभी की कुंडली प्रभावित होती है।  वही सूर्य हर महीने एक राशि को छोड़कर दूसरी राशि में चला जाता हैं। वही सूर्य के राशि परिवर्तन को संक्रांति कहते हैं, इस महीने 17 अक्टूबर को सूर्य कन्या राशि को छोड़कर तुला राशि में प्रवेश करने जा रहे हैं जहां पर वह करीब एक माह तक तुला राशि में ही रहेगा। वही सूर्य का तुला राशि में जाना नीच का माना जाता हैं। तुला सूर्य के शत्रु ग्रह शुक्र की राशि हैं सूर्य के तुला राशि में गोचर से कुछ व्यक्तियों के जीवन में अशुभ प्रभाव पड़ता हैं।
 
- वहीं जब किसी मनुष्य की कुंडली में सूर्य का शुभ प्रभाव होता हैं तो संबंधित व्यक्ति को नौकरी व्यापार में सफलता हासिल होती हैं। वही सूर्य के शुभ होने से मनुष्य का आत्मविश्वास भी बढ़ता हैं और मान-सम्मान भी प्राप्त होता हैं। 

- वही अगर कुंडली में सूर्य का अशुभ प्रभाव होता हैं तो इससे संबंधित मनुष्य असफलता को प्राप्त करता हैं जीवन में रुकावटें और परेशानियां भी बढ़ने लग जाती हैं। इसके अलावा धन हानि भी होती हैं।

READ MORE: गुरु दोषों से आप भी हैं परेशान तो गुरुवार के दिन जरुर करें ये काम, जानिए और भी बहुत कुछ

READ MORE: KarvaChauth: पहली बार रख रही हैं व्रत तो जरुर रखें इन बातों का ख्याल, जानें

READ MORE: राशिफल: आज इस राशि के जातकों को उच्च अधिकारियों का मिलेगा सहयोग, वापिस मिलेगा धन

READ MORE: अंकज्योतिष: आज इस अंक के जातकों के जीवन में छाया अमंगल होगा दूर, मिलेगी मानसिक शांति

- वही शास्त्रों में भी कहा गया हैं कि हर दिन सूर्य को जल अर्पित करना चाहिए। सूर्य को प्रत्यक्ष देवता माना जाता हैं। 

- वही हर दिन इनके दर्शन प्राप्त होते हैं बहुत से व्यक्ति इस नियम का पालन भी करते हैं मगर इसके ​भी नियम हैं जिन्हें जानकर सूर्य को जल दें। तो जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में इसका लाभ प्राप्त किया जा सकता हैं।

- वही ज्योतिष में बताया गया हैं, कि जिस किसी की कुंडली में सूर्य कमजोर स्थिति में होता हैं तो उसे रोजाना सूर्य को जल चढ़ाना चाहिए। सूर्य के नियमों का पालन करते हुए जल देना चाहिए।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Today Sun will transit in Libra zodiac

More News From dharam

Next Stories
image

free stats