image

शादी ब्याह में कुंडली एक अहम भूमिका अदा करता है । शादी शुरुआत होने से पहले लड़का लड़की की कुंडली मिलाई जाती है जिसमें उनके सारे चीजों को ध्यान में रखा जाता है। उनका जन्म स्थान , उनके जन्म का समय, उनकी जन्म की तारीख और उनके राशि नाम तथा गोत्र के नाम इत्यादि चीजों के साथ उनकी कुंडली मिलान की जाती है ।

जिसमें कुंडली की शुरुआत 16 गुण से मानी जाती है। अगर 16 गुण प्राप्त है तो शादी की जा सकती है। शादी के लिए अति उत्तम गुण कौन सा है आइए हम आपको आगे बताते हैं हिंदू शास्त्र के अनुसार शादी के लिए अति उत्तम गुण 28 को माना जाता है। 28 गुण अगर प्राप्त है तो वह शादी अति उत्तम होता है।

पंडित शास्त्री यह कहते हैं कि जिन व्यक्ति का 28 गुण मिलान होता है वह अपने जीवन को हमेशा एक दूसरे के साथ व्यतीत करते हैं। चाहे सुख में हो चाहे दुख में हो हर समय एक दूसरे के साथ खड़े रहते हैं और एक दूसरे की ढाल बनकर रक्षा करते हैं।

शादी के समय जो गुरु होते हैं अर्थात जो कुंडली मिलान करता है वह भी दूल्हा-दुल्हन को 2 गुण अपनी तरफ से देते हैं अर्थात जिन व्यक्तियों का गुण 26 होता है उनको 2 गुण पंडितों के द्वारा दिया जाता है तो 28 गुण हो जाते हैं यह शादी के लिए एक उच्चतम योग्य माना जाता है।

ऐसी मान्यता है, जानकारों का कहना है कि 28 गुण मिलने पर उनका वैवाहिक जीवन अच्छे से सुखमय व्यतीत होता है तथा हर परिस्थिति को संभालने की उनमें क्षमता हो जाती है।

इसलिए जब भी लड़का लड़की की शादी की बात होती है उसके पहले कुंडली मिलान की जाती है। अगर कुंडली में कोई दोष हो तो उसे दूर कर शादी करी जा सकती है जिसके कारण कुंडली मिलान एक अहम भूमिका अदा करता है।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Must combine kundali before marriage for happy married life

More News From life-style

Next Stories
image

free stats