image

विवाहित महिलाएं का जीवन बहुत ही अलग होता है क्योंकि शादी के बाद औरतों का रहन- सहन सब बदल जाता है। रीति- रिवाजों का मान- सम्मान करना बेहद जरूरी हो जाता है। ऐसे में लड़कियों को शादी के बाद कुछ चीजों का खास ख्याल रखना पड़ता है जैसे कि सोलह श्रृंगार में सावधानी। क्यूंकि यह आपकी सुहागिन की निशानियां है। बहुत बार ऐसा होता है कि, महिलाएं अपनी यह चीजें एक दूसरे के साथ शेयर करने लगती है जोकि कभी भी नहीं करनी चाहिए। 

जी हां, एक- दूसरे की चीजें को आपस में शेयर करने से बचना चाहिए। खासतौर पर ये 5 चीजें ऐसी हैं, जिन्हें एक-दूसरे का प्रयोग करने से बचना चाहिए। देश के अलग-अलग क्षेत्रों में ये बातें काफी प्रचलित हैं। इन 5 चीजों को शेयर करने का मतलब पति-पत्नी के रिश्ते का खराब होना माना जाता है, कहते हैं कि इन्हे शेयर करने से रिश्तों में दूरियां आती हैं और सुहाग एवं सौभाग्य को बुरी नजर लग जाती है।

सिंदूर: सुहाग की निशानी सिंदूर महिलाएं विवाह के वक्‍त सबसे पहले अपने पति के हाथ से धारण करती हैं। उन्‍हें अपना सिंदूर कभी किसी के साथ नहीं बांटना चाहिए। यानी जिस डिब्बी से वह सिंदूर लगाती हैं, उससे किसी अन्य को सिंदूर नहीं लगाने देना चाहिए। भगवान को चढ़ाया गया सिंदूर या नया डिब्बी देने में कोई दिक्कत नहीं है।  इसके अलावा मान्यता यह भी है कि महिलाओं को किसी के सामने सिंदूर नहीं लगाना चाहिए।

मेहंदी: सुहागन के हाथों की मेहंदी उसके पति के प्‍यार और उसकी सलामती की निशानी होती है। माना जाता है कि मेहंदी जितनी गहरी रचती है, उस महिला को पति का प्‍यार उतना ही ज्‍यादा मिलता है। इसलिए मेहंदी को बांटने से पति का प्‍यार भी बंट जाता है। मेहंदी किसी को देना चाहें तो नई दें अपने हाथ पर लगने बाद बची हुई मेहंदी दूसरी सुहागन स्त्री की हथेली में लगना अच्छा नहीं माना जाता है।

चूड़ी और पायल: चूड़ियों और पायल की खनक शादीशुदा महिलाओं के जीवन में खुशियां लेकर आती है। अक्‍सर देखा जाता है कि महिलाएं अपने वस्‍त्र-परिधानों से मैचिंग करने के चक्‍कर में अपनी ये चीजें दूसरों से साझा कर लेती हैं। इन्हें साझा करना शुभ शगुन नहीं माना जाता है।

काजल: महिलाओं को अपना काजल किसी के साथ नहीं बांटना चाहिए, भले ही वह आपके परिवार का कोई सदस्‍य ही क्‍यों न हो। माना जाता है कि ऐसा करने से पति का प्‍यार घटने लगता है। दोनों के बीच झगड़े और कलह की स्थिति पैदा होती है। वैसा इसका वैज्ञानिक कारण भी है जो आंखों के स्वास्थ्य से संबंधित है।

बिंदिया: हर सुहागन स्‍त्री के लिए माथे पर बिंदी लगाना अनिवार्य माना जाता है। सिंदूर की तरह बिंदी भी महिलाओं का सुहाग चिह्म होता है। मान्यता है कि इसे कभी भी अपने सिर से उतारकर किसी और के माथे पर नहीं सजाना चाहिए। अगर किसी को बिंदी देना चाहें तो नई बिंदी खरीद कर दें।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: married women should never share these things

More News From life-style

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats