image

हिन्दू धर्म में हर व्रत और त्योहार का अपना-अपना महत्व होता है और सभी इन व्रतों को कर भगवान का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। इसी तरह हरतालिका व्रत का भी हमारे जीवन में बहुत महत्व होता है। इस बार यह व्रत 1 सितंबर 2019, रविवार को शुभ मुहूर्त सुबह 5.27 से 7.52 तथा प्रदोष काल पूजा मुहूर्त शाम 17.50 से 20.09 तक है। यह व्रत भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को हस्त नक्षत्र के दिन होता है। इस दिन कुंआरी और सौभाग्यवती स्त्रियां गौरी-शंकर की पूजा करती हैं।

हरतालिका तीज व्रत पूजा का तरीका-
हरतालिका तीज पर माता पार्वती और भगवान शंकर की विधि-विधान से पूजा की जाती है। इस व्रत की पूजा विधि इस प्रकार है-

- हरतालिका तीज प्रदोषकाल में किया जाता है। सूर्यास्त के बाद के 3 मुहूर्त को प्रदोषकाल कहा जाता है। यह दिन और रात के मिलन का समय होता है।

- हरतालिका पूजन के लिए भगवान शिव, माता पार्वती और भगवान गणेश की बालू रेत व काली मिट्टी की प्रतिमा हाथों से बनाएं।

- पूजास्थल को फूलों से सजाकर एक चौकी रखें और उस चौकी पर केले के पत्ते रखकर भगवान शंकर, माता पार्वती और भगवान गणेश की प्रतिमा स्थापित करें।

READ MORE: भूल से भी ना करें आज ये गलतियां वरना सूर्यदेव का होगा प्रकोप, जानिए क्या

READ MORE: अंकज्योतिष: इस अंक के जातक आज कोई भी निर्णय दिल से नहीं दिमाग से लें, वरना होगा नुक्सान

- इसके बाद देवताओं का आह्वान करते हुए भगवान शिव, माता पार्वती और भगवान गणेश का षोडशोपचार पूजन करें।

- सुहाग की पिटारी में सुहाग की सारी वस्तु रखकर माता पार्वती को चढ़ाना इस व्रत की मुख्य परंपरा है।

- इसमें शिवजी को धोती और अंगोछा चढ़ाया जाता है। यह सुहाग सामग्री सास के चरण स्पर्श करने के बाद ब्राह्मणी और ब्राह्मण को दान देना चाहिए।

- इस प्रकार पूजन के बाद कथा सुनें और रात्रि जागरण करें। आरती के बाद सुबह माता पार्वती को सिन्दूर चढ़ाएं व ककड़ी-हलवे का भोग लगाकर व्रत खोलें।

READ MORE: पंचांग और शुभ मुहूर्त 25 अगस्त

READ MORE: राशिफल: आज इन राशियों को कारोबार में होगा लाभ, पार्टनरों का मिलेगा सहयोग

READ MORE: हुक्मनामा श्री हरिमंदिर साहिब जी 25 अगस्त

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Hartalika teej 2019

More News From dharam

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats