image

ज्योतिषशास्त्र मे हमारी राशि और ग्रहों का पुरा महत्व होता है और सभी ग्रहों और राशिनुसार रत्नों को धारण करने से सभी परेशानियों और मुश्किलों का अंत होता है।  ग्रहों के शुभ-अशुभ प्रभाव से मनुष्य का जीवन प्रभावित हो जाता हैं अगर किसी मनुष्य की कुंडली में ग्रह अशुभ फल देते हैं तो संबंधित ग्रह का रत्न धारण करने से उस ग्रह के दोष समाप्त हो जाते हैं। वहीं ज्योतिष में रत्नों को धारण करने के लिए कुछ नियम और उपाय बताएं गए हैं जिनका पालन करना व्यक्ति के लिए बहुत ही जरूरी होता हैं, तो आज हम आपको उसी नियम और उपाय के बारे में बताने जा रहे हैं, तो आइए जानते हैं।
 
बता दें, कि अगर व्यक्ति की कुंडली में सूर्य की महादशा चल रही हैं तो उन्हें रविवार के दिन रिंग फिंगर में माणिक्य रत्न को धारण करना चाहिए। रत्न पहनने के लिए सूर्योदय का समय बहुत ही शुभ माना जाता हैं। वही अगर कुंडली में चंद्रमा की महादशा चल रही हैं तो ऐसे मनुष्य को मोती पहनने की सलाह दी जाती हैं, मोती धारण करने का सबसे शुभ समय सोमवार का दिन माना जाता हैं।

READ MORE: उपाय: घर की सुख-शांति के लिए आज जरुर करें ये उपाय, मां लक्ष्मी सदा होगी प्रसन्न

READ MORE: राशिफल: आज इस राशि के जातकों की धन की स्थिति होगी अच्छी, खरीद सकते हैं नया वाहन

READ MORE: अंकराशिफल: आज इस अंक के जातकों को प्रोफेशनल लाइफ में मिलेगी प्रशंसा, सकारात्मक ऊर्जा के भरा होगा घर

- सोमवार की शाम अनामिका या कनष्ठिका उंगली में मोती पहन सकते हैं। वही अगर किसी की कुंडली में मंगल की महादशा चलने लगे तो संबंधित व्यक्ति को मूंगा धारण करना चाहिए। मूंगा पहनने के लिए मंगलवार का दिन शुभ माना जाता हैं मंगल के दिन शाम पांच बजे के बाद किसी भी समय इसे रिंग फिंगर में धारण कर सकते हैं यह उत्तम रहेगा।
 
- वही ज्योतिष के मुताबिक कुंडली में बुध की महादशा होने पर मनुष्य को पन्ना रत्न धारण करना चाहिए। बुधवार का दिन पन्ना धारण करने के लिए शुभ माना जाता हैं इसे दोपहर के वक्त आप अपनी कनिष्ठिका में पहन सकते हैं।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Gemology tips

More News From dharam

Next Stories
image

free stats