image

हमारे हिन्दू धर्म में भगवान श्रीकृष्ण के अनेकों मंदिर हैं केवल मंदिर ही नहीं श्रीकृष्ण के अनेकों नाम भी हैं। आज हम आपको श्रीकृष्ण के ऐसे ही एक मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसका उनके जीवन से बहुत महत्व है।

ये मंदिर है गुजरात के अहमदाबाद से लगभग 380 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है द्वारका। द्वारका को हिंदुओं की आस्था के प्रसिद्ध केंद्र चार धामों में से एक है। द्वारका जिसे द्वारकापुरी कहा जाता है और सप्तपुरियों में शामिल किया जाता है। द्वारका जिसे मथुरा छोड़ने के बाद स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने अपने हाथों से बसाया था। द्वारका जो आज कृष्ण भक्तों सहित हिंदू धर्म में आस्था रखने वालों के लिये एक महान तीर्थ है।

READ MORE: आमलकी एकादशी 2019: जानिए क्या है आमलकी एकादशी का महत्व और व्रत-विधि

READ MORE: HOLI 2019: मंदिरों में दिखी फागोत्सव की धूम

द्वारकाधीश मंदिर का इतिहास-

माना जाता है कि लगभग पांच हजार साल पहले जब भगवान श्री कृष्ण ने द्वारका नगरी को बसाया था तो उसमें जिस स्थान पर उनका निजी महल यानि हरि गृह था वहीं पर द्वारकाधीश मंदिर का निर्माण हुआ। भगवान श्री कृष्ण के अपने धाम गमन करने के पश्चात उनके साथ ही उनके द्वारा बसायी गई द्वारका नगरी भी समुद्र में समा गई थी। लगभग पच्चीसौ वर्ष पूर्व उनके प्रपौत्र वज्रनाभ ने करवाया था जिसका कालांतर में विस्तार और जीर्णोद्धार किया गया। मंदिर के वर्तमान स्वरुप को 16वीं शताब्दी के आस-पास का बताया जाता है।

द्वारकाधीश मंदिर की शोभा-
वास्तु कला के नजरिये से भी द्वारकाधीश मंदिर को बहुत ही उत्कृष्ट माना जाता है. मंदिर एक परकोटे से घिरा है। मंदिर की चारों दिशाओं में चार द्वार हैं जिनमें उत्तर और दक्षिण में स्थित मोक्ष और स्वर्ग द्वारा आकर्षक हैं। मंदिर सात मंजिला है जिसके शिख की ऊंचाई 235 मीटर है। इसके बनाने के ढंग की निर्माण विशेषज्ञ तक प्रशंसा करते हैं। मंदिर के शिखर पर लहराती धर्मध्वजा को देखकर दूर से ही श्री कृष्ण के भक्त उनके सामने अपना शीष झुका लेते हैं। यह ध्वजा लगभग 84 फुट लंबी हैं जिसमें विभिन्न प्रकार के रंग आकर्षक रंग देखने वाले को मोह लेते हैं। मंदिर के गर्भगृह में भगवान श्री कृष्ण की शयामवर्णी चतुर्भुजी प्रतिमा है जो चांदी के सिंहासन पर विराजमान है। ये अपने हाथों में शंख, चक्र, गदा औक कमल धारण किये हुए हैं। यहां इन्हें रणछोड़ जी भी कहा जाता है।

READ MORE: फूलदेई पर्व: आज से शुरु हो रहे हैं देवभूमि उत्तराखंड का प्रसिद्ध लोकपर्व 'फूलदेई'

READ MORE: राशिफल: आज इन राशिवालों पर मां लक्ष्मी जी की रहेगी कृपा, जानिए अपने सीतारें

द्वारकाधीश मंदिर के साथ साथ यहां पर अनेक मंदिर हैं जिनकी अपनी कहानियां हैं। गोमती की धारा पर बने चक्रतीर्थ घाट, अरब सागर और वहां पर स्थित समुद्रनारायण मंदिर, पंचतीर्थ जहां पांच कुएं हैं जिनमें स्नान करने की परंपरा है, शंकराचार्य द्वारा स्थापित शारदा पीठ आदि अनेक ऐसे स्थान हैं जो द्वारका धाम की महिमा को कहते हैं।

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: dwarkadheesh temple at gujarat

More News From dharam

free stats