image

गर्मी के मौसम में हर कोई चिलचिलाती धूप से बचने के लिए घर से बाहर निकलते समय अपनी स्कीन पर सनस्क्रीन लगाते है, जो हमारी स्कीन की सूरज से आने वाली हानिकारक पराबैंगनी किरणों से हमारी रक्षा करता है। आमतौर पर तो सभी सनस्क्रीन को घर से बाहर जाते समय लगाते हैं लेकिन विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि घर के अंदर रहने के दौरान भी चेहरे पर सनस्क्रीन लगाना बहुत जरूरी है। आज के जमाने में हम तमाम डिवाइसों से घिरे हुए हैं।

- घर में रहने के दौरान भी हम सोते या बैठते वक्त लैपटॉप, मोबाइल फोन, टैबलेट का उपयोग करते हैं और इनसे निकलने वाली हानिकारक विकिरणों का दुष्प्रभाव हमारी त्वचा पर पड़ती है। त्वचा विशेषज्ञ रश्मि शर्मा ने एक बयान में कहा कि डिजिटल पर बढ़ती निर्भरता ने हमारी त्वचा को सबसे ज्यादा हानिकारक इन नीली किरणों से अवगत कराया है।

- सूरज की हानिकारक पराबैंगनी किरणों से खुद को बचाने के लिए एहतियाती उपायों से अच्छी तरह से वाकिफ हैं, लेकिन इन नीली विकिरणों के त्वचा पर हानिकारक प्रभावों के बारे में वे अभी भी अंजान हैं और इससे सुरक्षा के उपाय भी उपलब्ध हैं।

- इन दृश्यमान नीली विकिरणों से त्वचा की सुरक्षा बहुत जरूरी है क्योंकि इससे समय से पहले चेहरे पर बढ़ती उम्र के प्रभाव को देखा जा सकता है और इसके साथ ही झुर्रियां, स्किन ढीली पड़ जाना और हाइपरपिगमेंटेशन की समस्या का सामना भी करना पड़ सकता है।

- इस नीली रोशनी को हाई-एनर्जी विजिबल लाइट्स के नाम से जाना जाता है जो पराबैंगनी किरणों की तुलना में त्वचा की गहराई में प्रवेश करने की क्षमता रखती है जिससे स्किन को नुकसान पहुंचता है।

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Do you know the sunscreen even inside the house

More News From dharam

Next Stories

image
free stats