image

बड़े भाई की मदद से अनिल अंबानी 462 करोड़ रुपए का बकाया चुका कर गिरफ्तारी से तो बच गए हैं, लेकिन सच तो यह है कि आगे उनकी दिक्कतें आसानी से कम होने वाली नहीं हैं। पिछले वित्त वर्ष के अंत यानी मार्च, 2018 तक अनिल धीरूभाई अंबानी समूह के ऊपर कुल कर्ज बोझ 1,03,158 करोड़ रुपए का था और इस पर ब्याज देनदारी भी करीब 10 हजार करोड़ रुपए के पास थी। हालांकि, समूह ने अपनी संपत्ति की बिक्री कर करीब 60 फीसदी कर्ज चुका देने की योजना बनाई है। इस वित्त वर्ष के कर्ज का अभी समूह का आधिकारिक आंकड़ा नहीं आया है, लेकिन कुछ अनुमानों के मुताबिक सितंबर, 2018 तक अनिल धीरूभाई अंबानी समूह का कर्ज बढ़कर करीब 1.72 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच गया है। गौरतलब है कि अनिल अंबानी ने स्वीडन की दूरसंचार उपकरण बनाने वाली कंपनी एरिक्सन को 550 करोड़ रुपए के बकाए का भुगतान कर दिया है, लेकिन ये पैसे उन्होंने अपने बड़े भाई मुकेश अंबानी से लेकर चुकाए हैं। अगर कंपनी ऐसा करने में विफल रहती तो आरकॉम के चेयरमैन अनिल अंबानी को 3 महीने जेल की सजा काटनी पड़ सकती थी। ऐसे में मदद के लिए बड़े भाई मुकेश अंबानी सामने आए।

संपत्ति बेचने के बाद आधे से कम हो जाएगा कर्ज!
समूह ने अपनी संपत्ति की बिक्री कर करीब 60 फीसदी कर्ज चुका देने की योजना बनाई है। योजना के मुताबिक संपत्ति बिक्री से समूह का कुल कर्ज घटकर 48,645 करोड़ रुपए रह जाएगा। अकेले समूह की दूरसंचार कंपनी रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) पर ही 38 बकाएदारों का करीब 47,000 करोड़ रुपए का कर्ज है और वह डेट रीस्ट्ररिंग प्रक्रिया से गुजर रही है। कंपनी अपना स्पेक्ट्रम, फाइबर, टैलीकॉम टावर आदि बेचकर करीब 25,000 करोड़ रुपए जुटाने की उम्मीद कर रही है। इसी तरह इस कंपनी की नवी मुंबई स्थित 125 एकड़ प्रॉपर्टी को बेचने से करीब 10,000 करोड़ रुपए मिल सकते हैं।

टैलीकॉम मार्कीट में जियो के आने के बाद पूरी तरह बर्बाद हो गई आरकॉम

आरकॉम पहले से ही टैलीकॉम मार्कीट में कुछ खास नहीं कर पा रही थी, लेकिन जियो के आने के बाद तो यह पूरी तरह बर्बाद ही हो गई। खुद उनके बड़े भाई मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो इंफोकॉम ने आरकॉम के एसेट खरीद की योजना बनाकर उसे राहत देने की कोशिश की थी, लेकिन यह मामला परवान नहीं चढ़ पाया, क्योंकि टैलीकॉम विभाग ने कहा कि जियो को आरकॉम का कर्ज भी चुकाना होगा।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Anil Ambani still has more than Rs 1 lakh crore loan, how will he get out of crisis?

More News From business

Next Stories

image
free stats