China

तुम्हारे देश में भी राष्ट्रीय सुरक्षा कानून है

चीनी केंद्रीय सरकार ने जनता की मांग पर देश की सुरक्षा के लिए कानून बनाते समय हांगकांग के औपनिवेशिक शासन के अंतिम तानाशाह क्रिस्टोफर फ्रांसिस पैटन(Christopher Francis Patten) और उनके साथियों ने बार बार कहा कि हांगकांग में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लागू करना हांगकांग की जनता के विरुद्ध है और चीन-ब्रिटेन संयुक्त वक्तव्य का उल्लंघन  है। इन लोगों की बातों से फिर एक बार चीनी जनता का दर्द भरा अतीत सामने आ गया। 

19 शताब्दी के मध्य से ब्रिटेन ने कम से कम तीन बार चीन के खिलाफ बड़े पैमाने वाला आक्रमण किया, जबकि ब्रिटेन ने अपने औपनिवेशिक शासन और युद्ध क्रूरता के लिए माफी नहीं मांगी। एक ब्रिटिश इतिहास अनुसंधानकर्ता ने सोशल मीडिया पर भूतपूर्व ब्रिटिश विदेश मंत्री जेरेमी हंट को चीन-ब्रिटेन संयुक्त वक्तव्य को ध्यान से पढ़ने की चेतावनी दी। जिनमें पहले चार्टर की पहली धारा में लिखा गया, चीन लोक गणराज्य के सरकारी बयान के मुताबिक हांगकांग को मातृभूमि की गोद में वापस लेना सारी चीनी जनता की समान अभिलाषा है। चीन लोक गणराज्य की सरकार 1997 के 1 जुलाई से हांगकांग पर प्रभुसत्ता  बहाल करेगी। तीसरे चार्टर की दूसरी धारा में कहा गया कि हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र चीन लोक गणराज्य की सरकार के प्रशासन में है। विदेशी मामला और प्रतिरक्षा मामला केंद्र सरकार के प्रबंध में है। हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र के पास उच्चतम आत्म शासन का अधिकार है।

दुनिया में प्रभुसत्ता संपन्न देश में सभी क्षेत्रों में राष्ट्रीय सुरक्षा के नियम की गारंटी में है। अमेरिका में कम से कम 20 से अधिक राष्ट्रीय सुरक्षा संबंधी नियम हैं। राज-द्रोह करने वाले लोगों के लिए सबसे बड़ी मौत की सज़ा है। ब्रिटेन में राष्ट्रीय सुरक्षा संबंधी कानून भी सभी प्रादेशिक भूमि में चलता है, जिस में स्कॉटलैंड और अन्य स्वायत्त क्षेत्र भी शामिल हैं।

ब्रिटेन की तुलना में चीन की प्रादेशिक भूमि का क्षेत्रफल और आबादी कई गुना बड़ी है। देश की सुरक्षा को गारंटी देने, क्षेत्र के अंदर और बाहर के शांतिपूर्ण वातावरण की रक्षा करने में और बड़ा कर्तव्य और जिम्मेदारी है। राष्ट्रीय सुरक्षा नियम से हांगकांग के नागरिकों को और अधिक सुरक्षा और स्थिरता महसूस हो सकेगी।

एक सच्चा लोकतंत्र और स्वतंत्र समाज को देश की प्रभुसत्ता एक सही मायने में "लोकतांत्रिक और स्वतंत्र" समाज सब से पहले देश की संप्रभु अखंडता और स्वतंत्रता पर बनाया गया है। ये ब्रिटिश राजनीतिज्ञ इतिहास को साफ नहीं देख सकते, और वास्तविकता भी नहीं देख सकते। चीनी लोग उन्हें बताएंगे कि साम्राज्यवाद और उपनिवेशवाद के लिए चीन में कोई एक इंच की प्रादेशिक भूमि पर कब्जा नहीं किया जा सकता है।
(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)