ChinaNews

इस साल के एनपीसी और सीपीपीसीसी में क्या खास है

कोविड-19 से प्रभावित होकर चीन में 2020 के सीपीपीसीसी और एनपीसी के सम्मेलन 21 मई से औपचारिक रूप से शुरू होंगे। यह खास पृष्ठभूमि और वक्त पर आयोजित किये गये विशेष सम्मेलन हैं। इन की निम्न चार विशेषताएं हैं।

पहला, खास पृष्ठभूमि। ये द्वितीय विश्व युद्ध के बाद सब से गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य घटना की पृष्ठभूमि में आयोजित किये गये दो सम्मेलन हैं। इस साल के सम्मेलन चीन द्वारा घरेलू महामारी को रोकने और अमेरिकी पश्चिमी देशों के कलंक का विरोध करने की स्थिति में आयोजित किये जाएंगे। सम्मेलन में क्या परिणाम मिलेगा, सम्मेलनों में हिस्सा लेने वाले प्रतिनिधि और सदस्य जवाब देंगे।

दूसरा, खास वक्त पर है। इस वर्ष चीन द्वारा खुशहाल समाज के निर्माण में विजय पाने का कुंजीभूत वर्ष है, चीन में गरीबी उन्मूलन का अहम वर्ष है, साथ ही 13वीं पंचवर्षीय योजना का अंतिम वर्ष है। हाल में चीन में 52 गरीब काऊंटियां और 2707 गरीब गांव मौजूद हैं और गरीब लोगों की आबादी 55.1 लाख है। दो सम्मेलनों से पहले चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने अनेक गरीब क्षेत्रों का दौरा किया और गरीबी उन्मूलन कार्य पर जोर दिया। कैसे जटिल देशी-विदेशी माहौल में उपरोक्त विभिन्न लक्ष्यों को पूरा करना दो सम्मेलनों में चर्चित मुख्य विषय होंगे।

तीसरा, खास मिशन है। हाल में कोविड-19 विश्व में फैल रहा है। महामारी का अर्थतंत्र पर असर बढ़ता जा रहा है। चीनी अर्थतंत्र भी अभूतपूर्व कठिनाइयों और चुनौतियों का सामना कर रहा है। पहली तिमाही में चीन के जीडीपी में 6.8 प्रतिशत की कटौती आयी, जो 1992 से अब तक पहली बार शून्य से कम हुई। चीन में आर्थिक विकास में भारी दवाब आया है। भविष्य के आर्थिक और सामाजिक विकास पर चीन क्या प्रबंध करेगा? यह भी इस साल के दो सम्मेलनों में केंद्रित विषय होगा।

चार, खास विश्वास है। महामारी के मुकाबले में चीनी जनता ने आत्मविश्वास जीता है। चीनी लोगों ने सीपीसी पार्टी, चीनी प्रणाली, चीनी प्रशासन क्षमता और वैश्विक सहयोग के प्रति विश्वास प्रकट किये। विश्व की प्रमुख आर्थिक इकाइयों में सब से पहले महामारी के संकट से बाहर निकालने वाले देशों में से एक होने के नाते, चीन के कदम ध्यानाजनक है। इस साल के दो सम्मेलनों में चीन अवश्य ही मानव साझे भाग्य वाले समुदाय की रचना की विचारधारा के आधार पर विश्व को महामारी को पराजित करने के लिए मजबूत विश्वास देगा, साथ ही चीन सहयोग कर महामारी का मुकाबला करने की अपील भी करेगा।

चीन जनता को केंद्र में रखने के विचार पर महत्व देता है। यह भी चीन द्वारा सभी मुसीबतों को पराजित करने का जादुई हथियार है, साथ ही चीन द्वारा आगे बढ़ने की प्रेरक शक्ति भी।

( साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग )