Chinese apps

भारत स्थित चीनी दूतावास ने चीनी एप्स के इस्तेमाल पर पाबंदी लगाने पर वक्तव्य जारी किया

29 जून को भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने विज्ञप्ति जारी कर संबंधित कानूनों व नियमों के हवाले से भारत की प्रभुसत्ता व परिपूर्ण, भारतीय रक्षा, भारतीय राष्ट्रीय सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था को क्षति पहुंचाने के तथाकथित कारणों से कुछ चीनी एप्स के भारत में इस्तेमाल पर पाबंदी लगायी है। जिसके प्रति चीन ने बड़ा ध्यान दिया और जबरदस्त विरोध किया।

भारत ने कुछ चीनी एप्स के खिलाफ भेदभावपूर्ण प्रतिबंध लगाया, जिसका कारण साफ नहीं है, जिसने उचित और न्यायपूर्ण सिस्टम का उल्लंघन किया है, राष्ट्रीय सुरक्षा का अनुचित प्रयोग किया और विश्व व्यापार संगठन के संबंधित नियमों का उल्लंघन भी किया है। भारत की यह कार्यवाई अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और ई-कॉमर्स की सामान्य प्रवृत्ति के खिलाफ़ है, जो भारतीय उपभोक्ताओं के हितों और बाजार प्रतिस्पर्द्धा के लिए लाभदायक नहीं है।

संबंधित एप के व्यापक भारतीय यूसर्ज हैं। लम्बे अरसे से ये एप भारतीय उपभोक्ताओं, भारतीय निर्माताओं और उद्यमियों के लिए उच्च गुणवत्ता की सेवा प्रदान करते हैं। भारत का पाबंदी वाला कदम इन एप्स के प्रचलन के लिए भारतीय लोगों को नुकसान पहुंचाएगा, साथ ही भारतीय उपभोक्ताओं के हितों और व्यापक निर्माताओं और उद्यमियों के रोजगार पर भी असर पड़ेगा।

चीन आशा करता है कि भारत चीन-भारत आर्थिक व व्यापारिक सहयोग और आपसी लाभ व साझी जीत को सही ढंग से समझेगा। साथ ही भारत पक्ष से संबंधित भेदभावपूर्ण व्यवहार को बदलने का आह्वान भी करता है, ताकि दोनों देशों के बुनियादी हितों और द्विपक्षीय संबंध की परिस्थिति से प्रस्थान होकर द्विपक्षीय आर्थिक व व्यापारिक सहयोग की रक्षा कर सके। आशा है कि भारत अपने देश में निवेश करने वाले सभी देशों के उद्यमों को एक खुला, न्यायपूर्ण और उचित व्यापार माहौल प्रदान कर सकेगा। 

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)