ChinaNews

टिप्पणीः तथाकथित शिन च्यांग का मानवाधिकार सवाल एक राजनीतिक झूठ है

नोवेल कोरोना वायरस महामारी के कारण जेनेवा में आयोजित संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद का 43वां सम्मेलन 13 मार्च से अस्थाई तौर पर स्थगित हुआ ।इस सम्मेलन पर कुछ देशों ने शिनच्यांग सवाल को भूनकर चीन पर कलंक लगाया। अब तक ऐसी गतिविधि समाप्त नहीं हुआ है ।
अमेरिका ने हाल ही में तथाकथित मानवाधिकार पर वर्ष 2019 देश रिपोर्ट्स जारी कर फिर चीन के मानवाधिकार और शिन च्यांग की नीति पर आरोप लगाया ।इस में कहा गया कि चीन वेवूर लोगों को हवालात में रखते हैं ।ऐसी अफवाह और मानवाधिकार सम्मेलन पर चीन के प्रति कुछ पश्चिमी देशों के प्रतिनिधियों का कथन सरासर निराधार है और उस का मर्म राजनीतिक झूठ है ,जिस का उद्देश्य शिनच्यांग की आतंकवाद विरोधी कोशिशों और चीन के विकास को बाधित करना है ।
    शिनच्यांग के बहुत लोगों के लिए तथाकथित हवालात कैंप वास्तव में व्यावसायिक कौशल प्रशिक्षण केंद्र है ,जो उग्रवादी विचार और किस्मत बदलने का महत्वपूर्ण मंच है।
शिनच्यांग वेवूर स्वायत्त प्रदेश के जिम्मेदार व्यक्ति ने पिछले साल के अंत में बताया था कि व्यावसायिक कौशल प्रशिक्षण केंद्र के सभी छात्रों ने प्रशिक्षण पूरा किया है और सरकार की मदद से स्थाई रोजगार पाया है। पिछले तीन साल शिनच्यांग में एक ही हिंसक आतंकवादी घटना नहीं हुई ,इस का श्रेय प्रशिक्षण केंद्र की स्थापना समेत अनेक उग्रवाद और आतंकवाद दूर करने के कदमों को जाता है ।
 जुलाई 2019 में 51 देशों ने संयुक्त रूप से यूएन मानवाधिकार परिषद के अध्यक्ष और मानवाधिकार आयुक्त के नाम पत्र लिखकर चीन की शिन च्यांग में आतंकवाद विरोधी नीति और मुस्लिमों का ख्याल रखने की प्रशंसा की । 
   तथाकथित शिनच्यांग में धार्मिक गतिविधि नियंत्रित करने की बात भी निराधार है ।अब चीन में कुल 35000से अधिक मस्जिद हैं ।
     तथ्यों से साबित है कि शिनच्यांग सवाल मानवाधिकार ,धर्म और अल्पसंख्यक सवाल नहीं है ,बल्कि हिंसका आतंकवाद और विभाजन का विरोध करने का सवाल है ।
  अब तक एक हजार से अधिक विभिन्न देशों के राजनयिकों ,अंतरराष्ट्रीय संगठनों के अधिकारियों ,मीडियाकर्मियों और धार्मिक नेताओं ने शिन च्यांग की यात्रा की ।उन्होंने बताया  कि शिनच्यांग की असली स्थिति कुछ पश्चिमी मीडिया के वर्णन से एकदम अलग है ।
इस साल यूएन मानवाधिकार मामले आयुक्त बाचलेट शिन च्यांग की यात्रा करेंगे ।आशा है कि वे शिनच्यांग में अधिक घूमेंगी और देखेंगी और विश्व को एक असली शिनच्यांग बताएंगी ।
(साभार-चाइना रेडियो इंटरनेशनल, पेइचिंग)