International

चीनी राष्ट्रपति और म्यांमार की स्टेट काउंसिलर आंग सान सू ची के बीच वार्ता

चीनी राष्ट्राध्यक्ष शी चिनफिंग ने नेपिदाओ में म्यांमार की
स्टेट काउंसिलर आंग सान सू ची से वार्ता की।
वार्ता में शी चिनफिंग ने कहा कि हाल ही में चीन और
म्यांमार का राष्ट्रीय विकास नये दौर में प्रवेश हुआ है।
द्विपक्षीय संबंधों का नया विकास हो रहा है। हमें भविष्य में
विभिन्न क्षेत्रों के आदान प्रदान और सहयोग के लिए योजना
बनाकर अच्छी तरह कार्यान्वयन करना चाहिए, ताकि चीन-
म्यांमार संबंध एक नयी मंजिल पर विकसित हो।
चीन-म्यांमार संबंध की चर्चा में शी चिनफिंग ने चार सुझाव
पेश किये। पहला, दोनों पक्षों को आर्थिक कॉरिडोर के निर्माण
को अच्छी तरह करना चाहिए और आर्थिक, व्यापारी सहयोग का
कार्यान्वयन करना चाहिए। चीन-म्यांमार आर्थिक कॉरिडोर का
निर्माण बेल्ट एंड रोड के निर्माण का एक अहम भाग है। दोनों
को यथाशीघ्र ही इस के निर्माण को शुरू करना चाहिए। दूसरा,
दोनों देशों को आपसी संपर्क को मज़बूत कर सड़कों, रेल मार्ग
और बिजली नेट जैसे प्रोजेक्टों को आगे विकसित करना चाहिए।
तीसरा, व्यापार और निवेश का विस्तार कर स्थानीय सहयोग
को घनिष्ट करना चाहिए। चौथा, सांस्कृतिक आदान-प्रदान को
गहराते हुए आर्थिक कॉरिडोर के आसपास के लोगों के जन-
जीवन, सुरक्षा और बुनियादी संरनचाओं के निर्माण को आगे
बढ़ाना चाहिए।
वार्ता में आंग सान सू ची ने चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग की
यात्रा का गर्म स्वागत किया। उन्होंने कहा कि म्यांमार

द्विपक्षीय मित्रता को बड़ा मूल्यवान समझता है। लम्बे अरसे से
चीन ने म्यांमार को बड़ा समर्थन दिया है, जिसे म्यांमार की
जनता हमेशा याद रखेगी। हालिया दुनिया में कुछ देशों ने
मानवाधिकार, जाति और धर्म आदि बहाने से दूसरे देश की
अंदरूनी मामलों में दखलंदाजी की है। म्यांमार इस तरह के
दबाव और हस्तक्षेप को कत्तई स्वीकार नहीं करेगा। आशा है कि
चीन अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में मध्यम और छोटे देशों का समर्थन
करता रहेगा और म्यांमार की घरेलू शांतिपूर्ण प्रक्रिया को आगे
बढ़ाने में रचनात्मक भूमिका निभाएगा।
वार्ता के बाद दोनों नेताओं ने अनेक द्विपक्षीय सहयोग
दस्तावेजों के हस्ताक्षर के समारोह में हिस्सा लिया। साथ ही
दोनों देशों ने चीन लोक गणराज्य और म्यांमार संघीय गणराज्य
का संयुक्त वक्तव्य भी जारी किया।