taksali leaders

SGPC से कब्जा छुड़वाने के लिए एकजुट हुए टकसाली, बनाई रणनिति

संगरुरः SGPC को बादलों से आज़ाद करवाने के लिये टकसाली एड़ी चोटी का ज़ोर लगाए हुए है।  वही अब अकाल तख्त साहिब के पूर्व जत्थेदार भाई रणजीत सिंह भी मैदान में कूद पड़े हैं। रणजीत सिंह ने दिड़बा के गांव रोगला का दौरा किया यहाँ लोगों को अपील की के वो उनका साथ दें।

1 मार्च 2020 को पटियाला ज़िला के घगा में में अकाल तख्त साहिब के पूर्व जथेदार भाई रणजीत सिंह की पंथक रैली है, जिसके संबध में वों दिड़बा के रोगला में गुरुद्वारा साहिब पहुंचे। यहाँ उन्होंने लोगों को संबोधित किया। भाई रणजीत सिंह ने कहा कि SGPC पर बादल परिवार का कब्ज़ा है। अब हम ने एक जुट होकर उनसे यह कब्ज़ा छुड़वाना है। उन्होंने कहा और गुरु घर की प्रॉपटी सिंद्धांत बचाने की जरूरत है और गुरु की गोलक भी ग़रीब और जरुरतमंद लोगों के काम आए। यह यक़ीनी बनाए और SGPC के जो काम गुरु साहिब ने बताए थे वो नही हो रहे। कमेटी सिर्फ बादल परिवार का एक दफ़तर बनकर रह गई। जो आम सिख हैं वो अलग-अलग पार्टियों में जा चुके हैं और अकाल तख्त से टूट चुकें हैं और बादलों ने अकाल तख्त को ज़ीरो बना दिया।

भाई रणजीत सिंह ने कहा कि हम SGPC के चुनाव की तैयारी कर रहा हां चुनाव के जरिये ही यह कब्जा लिया जाएगा और हमारे लीडर वर्कर ही हैं जिन्हों ने वोट डालनी है और सभी कुछ सँभालना है। उन्होंने SGPC  ले प्रधान गोबिंद सिंह लोंगोवाल पर भी सख़्त टिप्पणी की।