PATHANKOT

मानसा से पठानकोट तक तबलीगी मरकज के तार, 14 लोगों के नाम आए सामने

पठानकोट: निजामुद्दीन मरकज में 1 से 15 मार्च के बीच हुए तबलीगी जमात में शामिल हुए लोगों के नाम राज्य के अलग- अलग जिलों से सामने आ रहे हैं जिससे लोगोें में डर का माहौल पैदा हो गया है। जानकारी के अनुसार 2 लोग पठानकोट के मामून के हैं। इन लोगों के कोरोना वायरस के मरीजों के संपर्क में आने की आशंका है। 

पुलिस थाना मामून प्रभारी अनीता ठाकुर ने बताया कि उनको जिले के 2 लोगों की लिस्ट मिली है जिनमें अब्दुल मजीद निवासी मामून तथा दूसरा मुहम्मद रफी पुत्र सलीम मुहम्मद मोहल्ला चिब्बड़ गांव फंगोता का रहने वाला है। उन्होंनें बताया कि यह लोग अभी पठानकोट नहीं पहुंचे हैं। पुलिस उनके परिवार वालों के मोबाइल काल की जानकारी जुटाने में जुटी हुई है कि वह लोग किन लोगों के संपर्क में आए हैं। वहीं मानसा में भी 10 मुस्लिम लोगों की जांच के बाद उन्हे एकांतवास कर दिया है। 

इसके अलावा नोडल अफसर डा. अनीशपाल सिंह ने बताया कि दिल्ली के निजामुदीन में हुए धार्मिक समागम में शिकरत कर वापस छत्तीसगढ़ अपने घरों को लौट रहे 5 पुरुष और 5 मुस्लिम महिलाएं 19 मार्च को बुढलाडा में रुक गए थे और शहर के वार्ड नंबर 4 में बनी मस्जिद में रहे रहे थे। वहीं कठुआ के नगरी की तहसीलदार सुरिंद्रजीत कौर ने डिप्टी कमिश्नर कठुआ को जिले के 7 लोगों के तबलीगी जमात में शामिल होने की जानकारी दी है जो कोरोना संदिग्धों के संपर्क में आए हो सकते हैं। 

इनकी पहचान असगर अली पुत्र दीन मुहम्मद निवासी जंगलोट जिला कठुआ, इकबाल अहमद पुत्र गुलाम कासिन वार्ड नंबर-2 कठुआ, अब्दुल गनी पुत्र बशीर अहमद निवासी चक्क दासा सिंह कठुआ, मोहम्मद शफी पुत्र लाल दीन निवासी जंगलोट कठुआ, मास्टर जाजिर पुत्र फकीर चंद निवासी लखनपुर जिला कठूआ, बशीर अहमद पुत्र लाल दीन निवासी दराल जंगलोट जिला कठुआ तथा तेग अली पुत्र कालू दीन निवासी कालीबड़ी जिला कठुआ के रूप में हुई है। यह लोग भी अभी कठुआ नहीं पहुंचे हैं।