avdertisement
shani jayanti 2020

आज शनि जयंती पर ऐसे करें शनिदेव की पूजा, सभी दोषों से मिलेगी मुक्ति

हिन्दू धर्म में सभी भगवान के व्रत और पूजा-पाठ किये जाते है, जिससे भगवान का आशीर्वाद अपने भक्तों पर बनी रहती है और मुश्किलों से भक्तों को मुक्ति दिलाता है। इसी तरह हर साल ज्योष्ठ मास की अमावस्या तिथि को शनि जयंती मनाई जाती है, जिस दिन सभी शनिदेव की विशेष पूजा कर न्याय प्राप्त करते हैं। आइए जानते हैं आज शनि जयंती पर कैसे शनिदेव की पूजा करें-

- शनि जयंती के दिन काले रंग की चिड़िया खरीदकर उसे दोनों हाथों से आसमान में उड़ा दें। आपकी दुख तकलीफें दूर हो जाएंगी। 

- अमावस्या तिथि पर दान का बहुत अधिक महत्व होता है। इस दिन दान करने से कई गुना फल मिलता है। शनि जयंती के दिन दान करने से शनि के अशुभ प्रभावों से भी मुक्ति मिलती है। इस दिन अपनी क्षमता के अनुसार दान अवश्य करें।

- शनि जयंती पर 10 बादाम लेकर हनुमान मंदिर में जाएं। 5 बादाम वहां रख दें और 5 बादाम घर लाकर किसी लाल वस्त्र में बांधकर धन स्थान पर रख दें।

- शनि जयंती की शाम पीपल के पेड़ के नीचे तिल या सरसों के तेल का दीपक जलाएं।

- हनुमान जी की पूजा करने से सभी तरह के दोषों से मुक्ति मिलती है। धार्मिक कथाओं के अनुसार शनि देव ने हनुमान जी को वचन दिया है कि जो आपकी पूजा करेगा मेरी बुरी नजर उस व्यक्ति पर नहीं पड़ेगी। शनि के अशुभ प्रभाव से बचने केे लिए नित्य हनुमान चालीसा का पाठ करें। अगर संभव हो तोे शनि जयंती के दिन सुंदरकांड का पाठ भी करें।

- शनि जयंती पर शनिदेव का तिल के तेल से अभिषेक करें, तेल में काले तिल भी डालें, साथ ही शनिदेव के एक सौ आठ नामों का स्मरण अवश्य करें।

- आर्थिक स्थिति ठीक करने के लिए हमेशा शनिवार के दिन गेंहू पिसवाएं और गेहूं में कुछ काले चने भी मिला दें। 

- शनिदोष के कारण विवाह में विलंब हो रहा हो, तो 250 ग्राम काली राई, नए काले कपड़े में बांधकर पीपल के पेड़ की जड़ में रख आएं और शीघ्र विवाह की प्रार्थना करें।

- शनि जयंती पर लोहे का त्रिशूल महाकाल शिव, महाकाल भैरव या महाकाली मंदिर में अर्पित करें।