amritsar

SGPC की शताब्दी को लेकर नया प्लान, जल्द शुरु होंगी समागम की तैयारियां

अमृतसरः कोरोना के चलते लगे लॉकडाउन में आज सभी धार्मिक स्थल खोल दिए गए हैं। ऐसे में आज अमृतसर में एसजीपीसी के प्रधान भाई गोबिंद सिंह लोंगोवाल ने एसजीपीसी के शताब्दी समागम के चलते एक प्रैस वार्ता की। इस में उन्होनोें इस समागम में खर्च होने वाले पैसे और कार्यक्रमों के बारे में जानकारी दी।

उन्होनें कहा कि कोविड 19 के चलते वार्षिक इजलास नहीं हो पाया। इसलिए 3 महीने के फंड के लिए हमने मंजूरी दी है। उन्होनें कहा कि एसजीपीसी का शताब्दी समागम आ रहा है जोकि 15 नवंबर 2020 को मनाया जाएगा। और श्री अकाल तख्त साहिब, मंजी साहिब में ही सारे दीवान सजाए जाएंगे।  इस दौरान एसजीपीसी की कारगुजारी सम्बन्धी डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म भी तैयार की जायेगी । विद्वानों से किताबें भी तैयार करवाई जाएंगी। स्कूल कॉलेजो में सेमिनार करवाये जायेंगे । इसको लेकर सब कमेटियां भी बनाई जायेंगी ।

ननकाना साहिब के शहीदी साके की पहली शताब्दी 21 फरवरी 2021 को आ रही हैं उसमें भी समागम होंगे। इसके अलावा श्री गुरु तेग बहादुर जी के 400 साला प्रकाश गुरुपूर्व मनाया जायेगा । 1 मई 2021 को अमृतसर में मुख्य समागम होगा। इसको लेकर हाई पावर सब कमेटी भी तैयार की जायेगी ।शिरोमणि कमेटी एसजीपीसी की देखरेख वाले गुरुघरों में जहां जगह है, वहां 1 एकड़ में विरासती वृक्ष लगायेगी। 

खालिस्तान बारे श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार साहब की टिप्पणी पर लोंगोवाल कोई भी टिप्पणी करने से बचते नजर आये । उनका कहना था हमारा स्टैंड धार्मिक है हमारी मांग थी धार्मिक स्थल खोले जाये वह खोल दिये गये है। यहां लोंगोवाल ने कहा कि गुरु घरो में सारी एहतियात बरती जा रही है लेकिन मर्यादा का भी ख्याल रखा जायेगा इसी वजह से गुरुद्वारो में लंगर भी लगेगा और संगत को देग भी दी जायेगी ।