Pradosh Vrat 2020

Pradosh Vrat 2020: आज इस शुभ मुहूर्त पर करें भगवान शिव-पार्वती की पूजा, सभी कष्टों का होगा अंत

भगवान की पूजा और आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए हर माह व्रत रखे जाते हैं। इसी तरह हर माह प्रदोष व्रत आते हैं जिसे विधि पूर्वक करने से भगवान शिव की कृपादृष्टि और आशीर्वाद प्राप्त होता है। हिंदू पंचांग के मुताबिक हर महीने की कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी का व्रत पड़ता है, जो  आज 2 जुलाई को प्रदोष व्रत है। प्रदोष व्रत भगवान शिव को समर्पित माना जाता है। इसके साथ ही इस दिन माता पार्वती की भी आराधना की जाती है इसलिए भक्त घर पर रहकर ही भगवान भोले शंकर और माता पार्वती की पूजा अर्चना करेंगे। 

मान्यता के अनुसार जो जातक प्रदोष व्रत रखता है। भगवान उसकी सभी प्रकार की परेशानियों को खत्म कर देते हैं यह भी माना जाता है कि जो भक्त ये व्रत करता है। उसे किसी ब्राह्मण को गो दान करने के समान पुण्य लाभ मिलता है। प्रदोष व्रत दिन में किसी भी समय भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा कर सकते हैं वैसे प्रदोष काल की गई पूजा ज्यादा लाभकारी होती है। 

प्रदोष व्रत की तिथि-
प्रदोष व्रत की तिथि को रात 3:13 से शुरू होगी और अगले दिन यानी 3 जुलाई को 1:16  तक लगी रहेगी प्रदोष व्रत रखने वाले जातक ब्रह्म मुहूर्त में उठकर भगवान शिव का सुमिरन करें इसके बाद नित्य कर्मों को निपटा कर जल से स्नान करें गंगाजल से पवित्रीकरण करें गंगा जल का आचमन करें तांबे के लोटे में जल में गंगा जल मिलाकर सूर्य देव को प्रणाम करते अर्पित करें। 

इसके बाद पूजा घर में आसन पर बैठकर शिव-पार्वती की पूजा करें भगवान शिव के मंत्र और आरती का पाठ करें फल, फूल, धूप, दीप, अक्षत, भांग, धतूरा अर्पित करें यदि घर में शिवलिंग है तो उस पर दूध दही और पंचामृत चढ़ाएं शाम के समय में भगवान शिव और माता पार्वती की प्रणाम कथा और आरती का पाठ करें अगले दिन पूरे विधि-विधान के साथ व्रत खोलें।