women Special

Nari Special: ‘महिलाओं के बिना ये धरती है बंजर’:Divya Khosla Kumar

नारी के बिना ये जीवन अधूरा है, क्यूंकि समाज में ज्यादा तौर पर महिला को वह स्थान आज भी कहीं न कहीं प्राप्त नहीं हो सका है जिसकी वह हकदार है। देखा जाये तो भारतीय समाज सदैव से ही पुरुष प्रधान माना गया है, लेकिन इस कथन के बदलाव की बयार 21 वीं सदी से प्रारंभ हो चुकी है।

सबसे ज्यादा माना जाये तो भारतीय नारी जिसे अबला कहा जाता रहा है, ने आज अपने उसने अलग पहचान कायम की है, भारतीय नारी चूल्हे-चौके से बाहर आकर समाज में आदमियों से ज्यादा बढ़ कर अपना नाम बना रहीं हैं। अब देखा जाये तो देश के लिए सबसे ज्यादा नाम महिलाएं ही बना रही हैं। और ऐसा ही कुछ मानना है बॉलीवुड की अभिनेत्री दिव्या खोसला कुमार का आइये जानते हैं क्या कहा दिव्या खोसला कुमार ने। 


अभिनेत्री और फिल्मकार दिव्या खोसला कुमार का ऐसा मानना है कि महिलाओं के बिना यह धरती बंजर है और इसके साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि उनकी आसपास की कई महिलाएं काफी प्रेरणादायक हैं। दिव्या ने कहा, ‘‘मैं एक महिला होने के नाते बेहद गर्व महसूस करती हूं क्योंकि एक औरत के रूप में जन्म लेना काफी खूबसूरत बात है। मेरे ख्याल से पुरुष इस बात को कभी नहीं समझ पाएंगे कि एक महिला के तौर पर पैदा होना कितनी अच्छी बात है क्योंकि आप नाजुक होते हैं, आपमें देखभाल करने के गुण होते हैं, आपके पास इस संसार को देने लायक बहुत कुछ है। मुझे लगता है कि महिलाओं के बिना यह धरती बंजर होती। मैं ऐसी दुनिया की कल्पना भी नहीं कर सकती।’’


फिल्मों की बात करें, तो आने वाले समय में दिव्या, जॉन अब्राहम अभिनीत फिल्म ‘सत्यमेव जयते 2’ में दिखाई देंगी। यह फिल्म 2 अक्तूबर को रिलीज होगी उन्होंने इस बारे में कहा, ‘‘मैं फिल्म में जॉन अब्राहम के अपोजिट हूं। यह एक देशभक्ति फिल्म है। मैं इसके बारे में ज्यादा नहीं बता सकती, लेकिन इतना जरूर कहूंगी कि मैं अपने किरदार के लिए बहुत रोमांचित हूं।’’ भूषण कुमार और निखिल अडवानी इसके सह-निर्माता हैं। मिलाप जावेरी इसके निर्देशक हैं।  अगर सभी की सोच उन जैसी हो जाए तो ये देश कभी पिछड़ा नहीं मन जायेगा।