avdertisement
china

अधिकांश एयर कंडीशनर से वायरस की फैलाव नहीं हो सकती

नए कोरोना वायरस की रोकथाम और नियंत्रण के दौरान क्या सेंट्रल एयर कंडीशनिंग का प्रयोग किया जा सकता है? इस बारे में चीनी इंजीनियरिंग अकादमी के सदस्य और रेफ़्रिजरेशन एसोसिएशन के उप निदेशक च्यांग यी ने कहा कि लोगों को इसकी चिंता करने की ज़रूरत नहीं है। घर में एयर कंडीशनिंग का प्रयोग किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि चीन के 95 प्रतिशत से अधिक परिवारों में सेंट्रल एयर कंडीशनिंग का प्रयोग नहीं होता। आम तौर पर हमारे घर के हर कमरे में लगा एयर कंडीशनर स्वतंत्र है। विभिन्न कमरों में लगे एयर कंडीशनर एक दूसरे पर प्रभाव नहीं डालते। एयर कंडीशनर का वायरस के फैलाव से कोई संबंध नहीं होता।

च्यांग यी ने कहा कि सार्वजनिक स्थलों में वस्तुगत स्थिति के अनुसार तय किया जाना चाहिए। बड़े सुपर मार्केट, रेलवे स्टेशन और हवाई अड्डे जैसे सार्वजनिक क्षेत्रों में सेंट्रल एयर कंडीशनिंग व्यवस्था के प्रयोग में नई हवा के बदलाव की मात्रा को बढ़ाया जाना चाहिए। चीन के अधिकांश कार्यालयों में जो सेंट्रल एयर कंडीशनिंग का प्रयोग किया जाता है, उससे वायरस का फैलाव नहीं हो सकता है।

चीनी रोग रोकथाम और नियंत्रण केंद्र के वातावरण अनुसंधान संस्था के शोधकर्ता चांग ल्योपो ने कहा कि कुछ सेंट्रल एयर कंडीशनिंग में कीटाणुशोधन या स्वच्छ करने के उपकरण लगे होते हैं, जो कारगर है। उन्होंने कहा कि महामारी की रोकथाम के दौरान उन उपकरणों का प्रयोग किया जाना चाहिए। हर हफ्ते हवा फेंकने और हवा सोखने की जगह को अच्छे से साफ़ करना चाहिए। यह बहुत महत्वपूर्ण है। अगर वायरस से संक्रमित मरीज या संदिग्ध मरीज का पता चलता है, तो शीघ्र ही सेंट्रल एयर 
कंडीशनिंग बंद कर कीटाणुशोधन करना चाहिए।

चीनी इंजीनियरिंग अकादमी के सदस्य च्यांग यी ने यह भी कहा कि महामारी की रोकथाम में अकसर खिड़की खोलकर ताज़ा हवा लेना अनिवार्य है। उन्होंने कहा कि अगर हम कमरे में हैं, तो खिड़की खोलकर वायु संचार करें। अगर बाहर जाते हैं, तो अच्छे से मास्क पहनें। भीड़-भाड़ वाली जगह पर कम ही जाएं। ये उपाय बहुत कारगर और महत्वपूर्ण हैं।
(साभार-चाइना रेडियो इंटरनेशनल, पेइचिंग)