CAA

लुधियाना में CAA के समर्थन में हुई विशाल रैली, हजारों की संख्या में पहुंचे लोग

नागरिकता संशोधन अधिनियम के समर्थन में लुधियाना की दाना मंडी में विशाल रैली का अयोजन किया गया। इस दौरान हजारों की संख्या में लोगों ने पहुंचकर भारत सरकार के फैसले पर मुहर लगाई। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि हिंदरपाल जैन ने इस अधिनियम का पुरजोर समर्थन किया। रैली में अपने विचार रखने के लिए सुप्रीम कोर्ट की सीनियर एडवोकेट मोनिका अरोड़ा, भूतपूर्व अध्यक्ष दिल्ली यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन और रिपब्लिक चैनल के एंकर प्रदीप भंडारी विशेष रूप से दिल्ली से आए।
मोनिका अरोड़ा ने बताया कि भारत के 3 पड़ोसी इस्लामिक देश पाकिस्तान, बांग्लादेश एवं अफगानिस्तान से धार्मिक प्रताड़ना के शिकार सभी अल्पसंख्यक प्रवासियों को 31 दिसंबर, 2014 तक जो भारत में आ चुके हैं, उनको नागरिकता प्रदान की जाएगी। ये अधिनियम इन्हीं 3 मुस्लिम देशों से आए, सभी गैर मुस्लिम नागरिकों को नागरिकता देने से संबंधित है, ना कि किसी की नागरिकता छीनने के लिए है। भारत के नागरिकों को कोई खतरा नहीं है। उन्होंने कहा कि भारत के इतिहास को जो लोग नहीं जानते और न ही जानना चाहते हैं वही लोग इस अधिनियम का विरोध छात्र आंदोलन और अल्पसंख्यक के द्वारा करवा रहें हैं।
वहीं इस दौरान प्रदीप भंडारी ने बताया कि इन 3 देशों में गैर मुस्लिम महिलाएं बिल्कुल असुरक्षित है। जबरन उठा ले जाना, निकाह करवा लेना और जबरन धर्म परिवर्तन करवाना आम बात है। भारत में जो राज्य इस अधिनियम का विरोध कर रहें है वो बिल्कुल तर्कसंगत नहीं है। दुनिया में कहीं भी हिंदू प्रताड़ित होगा तो भारत उसकी शरणस्थली नहीं होगा तो कौन देश उसे शरण देगा। पूर्ण बहुमत से चुनी सरकार का ये दायित्व है कि वो आवश्यक लोगों को शरण दे। विपक्ष को जिम्मेदारी समझनी चाहिए। विपक्ष तो सिर्फ वोटबैंक के नजरिए से बाहर नहीं निकल पा रहा और विडंबना ये है कि वह देशद्रोह का काम कर रहा है।