china

चीन में प्रगति का जादू

49 वर्षीय सुरंजना रॉय भट्टाचार्य पहले पत्रकार थीं, अब स्वतंत्र लेखक हैं। वह कोलकाता की रहने वाली हैं और अब चीन के शांगहाई शहर में रहती हैं। उन्होंने मुंबई मिरर से कहा कि वर्ष 2008 में उनके पति काम के सिलसिले में शांगहाई आए थे। चार साल का काम खत्म करने के बाद उन्हें शांगहाई छोड़ना पड़ा। लेकिन लगातार चीन में रहने के लिए उनके पति ने काम बदला। देखा जा सकता है कि यह दंपति शांगहाई को कितना प्यार करते हैं। भट्टाचार्य ने कहा कि चीन में बुनियादी संस्थापनों का निर्माण एशियाई देशों में सबसे बढ़िया है। इमारत से सार्वजनिक बस तक सब नए नए दिखते हैं और पर्यावरण संरक्षण के हैं।

यह सच है कि चीन के बुनियादी संस्थापनों के निर्माण ने कई बार विदेशी दोस्तों को हैरान कर दिया। आज दुनिया के 10 सबसे ऊंचे पुलों में 8 चीन में हैं। चीन में दुनिया के सबसे लंबा समुद्र के पार पुल, सबसे तेज हाई-स्पीड रेलवे और सबसे बड़ा कंटेनर पोर्ट होते हैं। नए चीन की स्थापना के बाद पिछले 70 से अधिक सालों में चीन में बुनियादी संस्थापनों का तेज निर्माण हो रहा है। इसके पीछे रहस्य क्या है?

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा कि हमारी सबसे बड़ी श्रेष्ठता है कि चीनी विशेषता वाली समाजवादी व्यवस्था में हम संसाधन इकट्ठा कर काम कर सकते हैं। यह चीन में प्रगति का जादू है।

कुछ विदेशी लोगों को शंका है कि क्यों चीन में इतनी ज्यादा सुपर परियोजनाएं हैं? क्या चीनी लोग सबसे बड़ा और सबसे ऊंचा पसंद करते हैं? ऐसा नहीं है। चीन में बुनियादी संस्थापनों की स्थिति अच्छी होने का कारण है सामाजिक मांग और निर्माण की क्षमता, जो चीन की वस्तुगत स्थिति पर निर्भर करती है। चीन में कहावत है कि अमीर बनना चाहते हैं, तो सबसे पहले सड़क का निर्माण करें। चीन में लोग ज्यादा है और शहरीकरण पूरी नहीं हुई। तमाम बुनियादी संस्थापनों का निर्माण आर्थिक और सामाजिक विकास की मांग है। निर्माण की क्षमता काम करने के साथ बढ़ाई गई। चीन का विशाल भूक्षेत्र है और भूतत्वीय स्थिति अलग-अलग है। अगर निर्माण में मौजूद कठिनाइयों को दूर नहीं करते, तो शायद अब चीन के बहुत क्षेत्रों में रास्ता और बिजली नहीं पहुंच सकती। बड़े पैमाने पर बुनियादी संस्थापनों का निर्माण करने के तीन लाभ हैं, यानी कि बड़ी मात्रा में किसान मजदूरों को नौकरी दी गई, तेज आर्थिक वृद्धि का समर्थन किया गया और बाजार को सरल बनाया गया।

भट्टाचार्य ने कहा कि चीन में चाहे शहर में हो या गांव में, सब लोग खुश हैं और आशावादी हैं। बूढ़े लोग पार्क में संगीत बजाते हैं, नृत्य करते हैं और थाईछी (छाया मुक्केबाज़ी) करते हैं। चीन में गरीबी उन्मूलन की बड़ी उपलब्धि है, गरीब और अमीर के बीच ज्यादा खाई नहीं होती। कोविड-19 महामारी फैलने के बाद चीन सरकार ने उद्यमों में काम और उत्पादन बहाल करने के लिए ऋण कम करने जैसे सिलसिलेवार कदम उठाए। यह महामारी के दौरान चीन की अर्थव्यवस्था तेजी से बहाल होने का एक कारण है।

कोविड-19 महामारी फैलने के बाद चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कई बार महामारी की रोकथाम और आर्थिक व सामाजिक विकास को साथ में बढ़ाने के बारे में भाषण दिए। शी चिनफिंग ने कहा कि उद्यमों में उत्पादन सामान्य होने पर ही देश का सामान्य आर्थिक विकास होगा, रोजगार के अधिक अवसर होंगे और लोगों का जीवन सुनिश्चित होगा। ऐसे में नागरिक शांत होंगे और खुश होंगे।
(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)