School

सिख विचारधारा के प्रचार के लिए अमेरिका में खालसा विश्वविद्यालय स्थापित


अमृतसर : सिख विचारधारा के प्रचार के लिए अमेरिका के बैलिंगहम शहर में खालसा विश्वविद्यालय की स्थापना की गई है।खालसा विश्वविद्यालय स्थापित करने के लिए 125 एकड़ ज़मीन देने वाले सिख मनजीत सिंह धालीवाल को शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति द्वारा आज शिरोमणि समिति के मुख्य दफ़्तर में सिरोपा, श्री हरिमन्दर साहब का सुनहरी माडल, यादगारी सिक्के और धार्मिक पुस्तकें देकर सम्मानित किया गया। श्री धालीवाल अपने बड़े भाई हरभजन सिंह धालीवाल और पंजाब विश्वविद्यालय पटियाला से डॉ गुरनाम सिंह समेत सच्चखंड श्री हरिमन्दर साहब में दर्शनों के लिए पहुँचे थे। इस अवसर पर भाई राजिन्दर सिंह मेहता ने अमेरिका के सिखों की ओर से खालसा विश्वविद्यालय स्थापित करने की पहल को ऐतिहासिक और प्रशंसनीय कदम करार दिया। उन्होंने कहा कि अमेरिका निवासी नई पीढ़ी को गुरबानी, गुरु नानक 
साहब की विचारधारा और सिख व्यवहार के साथ जोड़ने का यह ठोस प्रयास है। उन्होंने कहा कि शिरोमणि समिति की तरफ से भाई गोबिन्द सिंह लोंगोवाल के नेतृत्व में समिति ने खालसा विश्वविद्यालय को हर तरह के सहयोग का भरोसा भी दिया है।

शिरोमणि समिति के मुख्य सचिव डॉ रुप सिंह ने कहा कि अमेरिका जैसे विकसित देश में सिखों को उभारने के लिए खालसा विश्वविद्यालय की स्थापना बेहद अहम प्राप्ति है। इसके साथ जहाँ सिख कौम की नई पीढ़ी अपने सद्व्यवहार, गुरबानी की विचारधारा और इतिहास के साथ जुड़ेगी, वहीं दूसरे धर्मों के बच्चों को भी सिखों की विलक्षण हस्ती और पहचान की जानकारी प्राप्त होगी। खालसा विश्वविद्यालय की स्थापना सम्बन्धित मनजीत सिंह धालीवाल ने बताया कि यह अमेरिका में पहले विश्वविद्यालय के तौर पर स्थापित हुई है। चाहे इससे पहले अलग-अलग देशों में सिख संस्थाओं की तरफ से कई स्कूल चलाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अमेरिका में खालसा विश्वविद्यालय का मंतव्य गुरु साहब के दर्शन के अनुसार मानवी समानता के संदेश का प्रचार करना है। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय के लिए अमेरिका के वा¨शगटन राज्य से रजिस्ट्रेशन प्राप्त की जा चुकी है। मौजूदा समय स्कूल के इलावा आनलाइन पाठ्यक्रम आरंभ किये जा रहे हैं और अगले समय दौरान बड़े अकादमिक पाठ्यक्रम चलाए जाएंगे। इन पाठ्यक्रमों में मेडिकल, वकालत, अकाउंट्स आदि विषय विशेष होंगे।