avdertisement
Jagjit Singh

मशहूर गजलों से जगजीत सिंह ने फिल्मों में मचाया धमाल, जानिए B'day Spl में उनके जीवन से जुड़ी कुछ खास बातें

सिनेमा जगत में अपनी गजल और गायकी से नाम कमाने वाले जगजीत सिंह सभी के दिलों पर राज करते हैं। 8 फरवरी 1941 राजस्थान के गंगानगर में हुआ था। बता दें, फिल्मों में तो जगजीत सिंह की गजलों ने धमाल मचाया ही, लेकिन उनकी दूसरी गजलें भी काफी पॉपुलर रहीं। आज गजल सम्राट के जन्मदिन पर उनके जीवन से जुड़ी कुछ ऐसी ही बातों के बारे में जानते हैं-

जगजीत सिंह के प्रसिद्ध गजल-
तेरे बारे में जब सोचा नहीं था- शहर एल्बम की इस गजल के बोल नवाज देओबंदी जी ने लिखे थे। इसका संगीत जगजीत सिंह ने दिया था साथ ही उन्होंने अपनी खूबसूरत आवाज से इसे और भी दमदार बना दिया था।

जब सामने तुम आ जाते हो- दिल कहीं होश कहीं एल्बम की ये गजल आज भी सुपरहिट है। जगजीत सिंह, लता मंगेश और आशा भोसले जैसी लेजेंड्री सिंगर्स ने इस गजल को गाया था। गजल को रिया सेन पर फिल्माया गया था।

हमकों यकीं है सच कहती थी- जावेद अख्तर द्वारा लिखी गई इस गजल के बोल आपको मां की याद दिला ही देते हैं और बचपन के दिनों में ले जाने को मजबूर कर देते हैं और जगजीत सिंह की आवाज में तो भाव और भी ज्यादा उमड़ कर आने लग जाते हैं।

तेरे आने की जब खबर महके- इस गजल में एक बार फिर से मशहूर शायर नवाज देओबंदी और जगजीत सिंह की जोड़ी ने धमाल मचा दिया। ये गजल भी सुपरहिट रही थी और आज भी कहीं बजती है तो वाकई में किसी की याद सुरों में लिपटी हुई आ ही जाती है।

आपको देख कर देखता रह गया- आंधियों के इरादे तो कुछ भी ना थे, ये दीया कैसे जलता हुआ रह गया। वाकई में जगजीत सिंह की आवाज में जब इस गजल के मायने समझ में आते हैं तो जीवन प्यार की चहलकदमियों के बीच दार्शनिक नजर आता है।

भारत सरकार द्वार मिला था ये सम्मान-
जगजीत सिंह को सन 2003 में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। फरवरी 2014 में आपके सम्मान व स्मृति में दो डाक टिकट भी जारी किए गए।